United Nations के विशेषज्ञों के एक समूह ने पाकिस्तान में लड़कियों के अपहरण, जबरन शादी और धर्मांतरण में वृद्धि पर चिंता जताई

United Nations
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Common
समूह ने इस तरह की प्रथाओं पर अंकुश लगाने और पीड़िताओं के लिए न्याय सुनिश्चित करने के लिए तत्काल प्रयास करने का आह्वान किया है। विशेषज्ञों ने कहा, “हम सरकार से आग्रह करते हैं कि इन कृत्यों को निष्पक्ष रूप से और पाकिस्तान के कानून तथा अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार प्रतिबद्धताओं के अनुरूप रोकने एवं पूरी तरह से जांच करने के लिए तत्काल कदम उठाएं।

संयुक्त राष्ट्र/जिनेवा। संयुक्त राष्ट्र के शीर्ष स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों के एक समूह ने पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय (धर्म) की कम उम्र की बच्चियों तथा युवतियों के अपहरण, जबरन विवाह और धर्मांतरण में कथित वृद्धि पर चिंता जताई है। समूह ने इस तरह की प्रथाओं पर अंकुश लगाने और पीड़िताओं के लिए न्याय सुनिश्चित करने के लिए तत्काल प्रयास करने का आह्वान किया है। विशेषज्ञों ने कहा, “हम सरकार से आग्रह करते हैं कि इन कृत्यों को निष्पक्ष रूप से और पाकिस्तान के कानून तथा अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार प्रतिबद्धताओं के अनुरूप रोकने एवं पूरी तरह से जांच करने के लिए तत्काल कदम उठाएं।

इसे भी पढ़ें: Greta Thunberg को जर्मन खदान के विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने हिरासत में लिया

अपराधियों को पूरी तरह से जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए।” विशेषज्ञों ने सोमवार को कहा कि वे यह सुनकर बहुत परेशान हैं कि 13 साल की कम उम्र की लड़कियों को उनके परिवारों से अगवा किया जा रहा है। उनके घरों से दूर स्थानों पर ले जाकर उनकी तस्करी की जा रही है। कभी-कभी उनसे दोगुनी उम्र के पुरुषों से उनकी शादी की जाती है और धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर किया जाता है। विशेषज्ञों ने एक बयान में कहा कि यह सब अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार कानून का उल्लंघन है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़