अफगान पर UNSC की बैठक में गुटेरेस ने की तालिबान से संयम बरतने की अपील, भारत ने दी ये नसीहत

अफगान पर UNSC की बैठक में गुटेरेस ने की तालिबान से संयम बरतने की अपील, भारत ने दी ये नसीहत

एंटोनियो गुटेरेस ने तालिबान से संयम बरतने की अपील की है। साथ ही अन्य पक्ष से भी संयम बरतने की बात कही है।

अफगानिस्तान में इस वक्त जो संकट खड़ा हुआ है उसको लेकर वैश्विक स्तर पर चिंता साफ देखी जा सकती है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) की अहम बैठक हो रही है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस, अफ़ग़ानिस्तान पर चल रही यूएनएससी की आपातकालीन बैठक के दौरान कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एकजुट होकर यह सुनिश्चित करना चाहिए कि अफ़ग़ानिस्तान फिर से एक बार आतंकी संगठनों के लिए सुरक्षित स्थान ना बन जाए। इसके साथ ही एंटोनियो गुटेरेस ने तालिबान से संयम बरतने की अपील की है। साथ ही अन्य पक्ष से भी संयम बरतने की बात कही है। 

इसे भी पढ़ें: अफगानिस्तान में तालिबानी कहर, तालिबान को लेकर ब्रिटिश संसद में होगी चर्चा

एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि मैं यूएनएससी और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से आग्रह करता हूं कि वे एक साथ खड़े हों, एक साथ काम करें और अफगानिस्तान में वैश्विक आतंकवादी खतरे को दबाने के लिए अपने सभी साधनों का उपयोग करने के लिए मिलकर काम करें और यह गारंटी दें कि बुनियादी मानवाधिकारों का सम्मान किया जाएगा। 

भारत के राजदूत का बयान 

संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत टीएस तिरुमूर्ति ने कहा कि अगर आतंकवाद के प्रति सभी रूपों में जीरो टॉलरेंस की नीति है और ये सुनिश्चित करता है कि अफगान क्षेत्र का उपयोग आतंकवादी समूहों द्वारा किसी अन्य देश को धमकाने या हमला करने के लिए नहीं किया जाता है तो अफगानिस्तान के पड़ोसी और इलाके सुरक्षित महसूस करेंगे।  

अफगान लोगों के साथ खड़ा है फ्रांस

अफगानिस्तान पर यूएनएससी की आपात बैठक में फ्रांस ने कहा कि हम तत्काल युद्धविराम और अंतरराष्ट्रीय कानूनों का सम्मान करने का आह्वान करेंगे। महिलाओं के अधिकारों का सम्मान किया जाना चाहिए। दुर्व्यवहार करने वालों को न्याय के कटघरे में खड़ा किया जाना चाहिए। फ्रांस, अफगान लोगों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है।

वादों का सम्मान नहीं कर रहा तालिबान

संयुक्त राष्ट्र में अफगानिस्तान के राजदूत और स्थायी प्रतिनिधि गुलाम एम इसाकजई ने कहा कि तालिबान दोहा और अन्य अंतरराष्ट्रीय मंचों पर अपने बयानों में किए गए अपने वादों और प्रतिबद्धताओं का सम्मान नहीं कर रहा है। वहां के लोग भय के माहौल में जी रहे हैं।