हम सभी चीनी नागरिकों को उच्च सुरक्षा मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं : प्रधानमंत्री शरीफ

Pakistan
Google Creative Commons.
चीन के विदेश सुरक्षा आयुक्त चेंग गुओपिंग की अगुवाई वाले एक प्रतिनिधिमंडल से बातचीत में शरीफ ने पाकिस्तान की विदेश नीति में चीन की महत्ता पर जोर दिया तथा सरकार के चीन के साथ सामरिक संबंधों को और मजबूत करने के संकल्प को दोहराया।

 इस्लामाबाद| पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने कहा कि उनकी सरकार अरबों डॉलर के चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे के तहत देश में विभिन्न परियोजनाओं में काम कर रहे सभी चीनी नागरिकों और संस्थानों को उच्च स्तर की सुरक्षा मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध है।

चीन के विदेश सुरक्षा आयुक्त चेंग गुओपिंग की अगुवाई वाले एक प्रतिनिधिमंडल से बातचीत में शरीफ ने पाकिस्तान की विदेश नीति में चीन की महत्ता पर जोर दिया तथा सरकार के चीन के साथ सामरिक संबंधों को और मजबूत करने के संकल्प को दोहराया।

शरीफ ने बृहस्पतिवार को प्रतिनिधिमंडल से बातचीत की। प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, शरीफ ने ‘‘परिवर्तनकारी चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे के तहत नयी परियोजनाओं के साथ ही पहले से चल रही परियोजनाओं में तेजी लाने के उनके सरकार के संकल्प को दोहराया।

इस गलियारे ने पाकिस्तान के सामाजिक-आर्थिक विकास में काफी योगदान दिया है और उसके उच्च गुणवत्ता के विकास को साकार किया है।’’

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार 60 अरब डॉलर की लागत के चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपेक) के तहत देश में विभिन्न परियोजनाओं में काम कर रहे सभी चीनी नागरिकों और संस्थानों को उच्च स्तर की सुरक्षा मुहैया कराने के लिए प्रतिबद्ध है।

बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री शरीफ ने चीन के साथ नयी ऊर्जा और उत्साह के साथ काम करने की प्रतिबद्धता जतायी खासतौर से दोनों देशों के लिए सामरिक रूप से महत्वपूर्ण परियोजनाओं पर, जैसे कि एमएल-1 परियोजना।

प्रधानमंत्री शरीफ ने कहा कि चीन-पाकिस्तान के संबंध परस्पर विश्वास, सम्मान और सहयोग पर आधारित हैं और उन्होंने इस बात की सराहना की कि दोनों देश एकजुटता और आपसी सहयोग के साथ हर चुनौती से निपटने के लिए एक-दूसरे के साथ हमेशा खड़े रहे हैं। उन्होंने कराची आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि पूरा देश पीड़ितों के परिवारों तथा चीन के लोगों के लिए शोकाकुल है। उन्होंने कराची हमले की व्यापक जांच कराने, जल्द से जल्द दोषियों को पकड़ने और उन्हें न्याय के कटघरे में लाने के पाकिस्तान के संकल्प को दोहराया। गौरतलब है कि बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी (बीएलए) की बुर्का पहनकर आयी एक आत्मघाती हमलावर ने 26 अप्रैल को प्रतिष्ठित कराची विश्वविद्यालय में कनफ्यूशियस इंस्टीट्यूट की एक वैन के पास खुद को बम से उड़ा लिया था, जिसमें चीन के तीन शिक्षकों और एक पाकिस्तानी चालक की मौत हो गयी थी। चीन के विदेश सुरक्षा आयुक्त चेंग ने आतंकवादी हमलों की व्यापक जांच करने में पाकिस्तान द्वारा उठाए गए कदमों की सराहना की।

उन्होंने कहा कि आतंकवाद पाकिस्तान और चीन दोनों का साझा शत्रु है और दोनों पक्ष इसके खात्मे के लिए दृढ़ संकल्पित हैं। बयान के अनुसार, चेंग ने कहा कि पाकिस्तान-चीन संबंध अंतर-सरकारी संबंधों का एक मॉडल है और ऐसे वक्त में स्थिरता का स्तंभ हैं जब अंतरराष्ट्रीय स्थिति में उतार-चढ़ाव आ रहा है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़