एडविना-नेहरू के निजी खतों में क्या था ऐसा खास? ब्रिटिश कोर्ट ने सार्वजनिक करने से किया मना

एडविना-नेहरू के निजी खतों में क्या था ऐसा खास? ब्रिटिश कोर्ट ने सार्वजनिक करने से किया मना
Creative Common

ब्रिटेन के एक ट्रिब्यूनल ने निजी डायरी और एडविना माउंटबेटेन और जवाहर लाल नेहरू के बीच लिखे गए पत्रों को ब्रिटिश लेखक को देने से मना कर दिया। जज सोफी बकले ने लेखक एंड्रयू लाउनी की अपील को खारिज कर दिया।

एंड्रयू लोअनी नाम के एक ब्रिटिश लेखक इन दिनों खूब चर्चा में हैं। पिछले कुछ सालों से वो लगातार इस कोशिश में लगे थे कि भारत के आखिरी वायसराय लार्ड माउंटबिटेन की पत्नी एडविना की व्यक्तिगत डायरी प्राप्त करने के लिए लंबी और खर्चीली कानूनी लड़ाई लड़ी। लेकिन 3.5 करोड़ रुपये खर्च करने के बावजूद वो ये कानूनी लड़ाई हार गए। ब्रिटेन के एक ट्रिब्यूनल ने निजी डायरी और एडविना माउंटबेटेन और जवाहर लाल नेहरू के बीच लिखे गए पत्रों को ब्रिटिश लेखक को देने से मना कर दिया। जज सोफी बकले ने लेखक एंड्रयू लाउनी की अपील को खारिज कर दिया। 

इसे भी पढ़ें: चीन की कंपनी Xiaomi के खिलाफ ED की बड़ी कार्रवाई, 5551 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार एंड्रयू लोअनी उन पत्रों को भी हासिल करना चाहते थे जो एडविना माउंटबेटन और जवाहरलाल नेहरू ने 1947 और 1960 के बीच एक-दूसरे को भेजे थे। ट्रिब्यूनल ने पाया कि साउथेम्प्टन विश्वविद्यालय नेहरू और एडविना के बीच भेजी गईं चिट्ठियां नहीं हैं। न्यायाधीश ने पाया कि यूनिवर्सिटी लॉर्ड बेब्रोर्न की तरफ से कुछ पेपर्स को संभाल कर रखे हुई थी। यूनिवर्सिटी के पास विकल्प था कि वो इन पत्रों को 100 पाउंड में खरीद सकता था लेकिन ऐसा नहीं किया गया। 

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान की नयी शहबाज सरकार का बड़ा कदम, अब जल्द पाक वापस आ सकेंगे नवाज शरीफ

न्यायाधिकरण (सूचना अधिकार) के न्यायाधीश सोफी बकले ने लॉर्ड एंड लेडी माउंटबेटन की व्यक्तिगत डायरी और एडविना माउंटबेटन और जवाहरलाल नेहरू के व्यक्तिगत पत्रों को जारी करने के लिए उनकी याचिका को खारिज करने के बाद ब्रिटिश लेखक एंड्रयू लोनी ने कहा कि मैं नहीं समझता हूं कि कुछ भी सनसनीखेज बचा है, ये गैर मामूली चीजों के लिए बड़ी कानूनी लड़ाई थी। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार ब्रिटिश लेखर लोअनी ने इस केस को लड़ने के लिए अपने 3 लाख पाउंड खर्च कर डाले। उन्होंने पैसों के लिए उन्होंने क्राउड फंडिंग भी की। उन्होंने कहा कि वे लोग जो कुछ भी छिपाने की कोशिश कर रहे थे उनमें से ज्यादातर चीजें पहले से ही पब्लिक डोमेन में मौजूद है। लोअनी ने कहा कि उन्हें संदेह है कि दस्तावेजों को इसलिए नहीं जारी किया गया क्योंकि वो पाकिस्तान और भारत के संबंध में है। उन्होंने कहा, "एडविना की प्रकाशित डायरी में जिन्ना के मनोरोगी होने का जिक्र है। मुझे नहीं लगता कि पाकिस्तान के साथ संबंध प्रभावित होने वाले हैं।"