शेख हसीना ने की लोगों से अपील, बोलीं- समृद्ध एवं गैर सांप्रदायिक बांग्लादेश के लिए करें काम

Sheikh Hasina
बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने देश की स्वतंत्रता की स्वर्ण जयंती की पूर्व संध्या पर राष्ट्र के नाम संबोधन में कहा कि बांग्लादेश के लोगों को राष्ट्रपिता बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान के सपनों के अनुरूप एवं 1971 के स्वतंत्रता संग्राम से प्रेरित होकर राष्ट्र निर्माण के अपने प्रयासों को नया स्वरूप देना चाहिए।

ढाका। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने बृहस्पतिवार को अपने देश के लोगों से आग्रह किया कि वे आपसी मतभेदों को दूर करें और एक ‘‘समृद्ध एवं गैर-सांप्रदायिक’’ बांग्लादेश के लिए काम करें। हसीना ने देश की स्वतंत्रता की स्वर्ण जयंती की पूर्व संध्या पर राष्ट्र के नाम संबोधन में कहा कि बांग्लादेश के लोगों को राष्ट्रपिता बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान के सपनों के अनुरूप एवं 1971 के स्वतंत्रता संग्राम से प्रेरित होकर राष्ट्र निर्माण के अपने प्रयासों को नया स्वरूप देना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश के भीतर और बाहर स्वतंत्रता विरोधी ताकतों ने बांग्लादेश की प्रगति में अड़ंगा लगाने के लिए अनेक षड्यंत्र किए हैं।

हसीना ने कहा, ‘‘ये (षड्यंत्र) अब भी जारी हैं, इसलिए हम सभी को सतर्क रहना होगा और देशविरोधी गतिविधियों का मुकाबला करना होगा।’’ उल्लेखनीय है कि 1971 में भारत की मदद से लड़े गए बांग्लादेश मुक्ति संग्राम में जीत के बाद पाकिस्तान से अलग होकर बांग्लादेश एक अलग देश के रूप में अस्तित्व में आया था। हसीना ने कहा, ‘‘हमें सभी मतभेदों को भुला देना चाहिए और एक ‘‘समृद्ध एवं गैर-सांप्रदायिक’’ बांग्लादेश के लिए काम करना चाहिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़