कम्युनिस्ट पार्टी के इतिहास पर शी जिनपिंग की छाप मजबूत, प्रस्ताव हुआ पारित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 12, 2021   11:29
कम्युनिस्ट पार्टी के इतिहास पर शी जिनपिंग की छाप मजबूत, प्रस्ताव हुआ पारित

पार्टी में शी की वर्तमान स्थिति पूर्व नेताओं माओत्से तुंग और तंग श्याओ पिंग से भिन्न है, जब उन्होंने क्रमश: 1945 और 1981 में पार्टी के इतिहास पर पिछले प्रस्तावों की शुरुआत की थी। माओ और तंग दोनों के पास अच्छी तरह से स्थापित राजनीतिक अधिकार था जो कई मायनों में सीसीपी में उनके औपचारिक पदों से स्वतंत्र था।

मेलबर्न। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का छठा पूर्ण सत्र बीजिंग में समाप्त होने के बीच, चीन से बाहर अधिकांश ध्यान दो प्रमुख पहलुओं पर है पहला यह कि यह बैठक मुख्य रूप से सीसीपी के महासचिव और देश के राष्ट्रपति दोनों के रूप में शी जिनपिंग की राजनीतिक पकड़ को मजबूत करने के लिए आयोजित की गई थी, जिनका अगले साल होने जा रही पार्टी कांग्रेस में नेता के रूप में पांच साल का तीसरा कार्यकाल हासिल करना तय है। दूसरा कम्युनिस्ट पार्टी के इतिहास पर एक प्रस्ताव का अनुमोदन। इसका उद्देश्य न केवल पार्टी में शी की स्थिति को मजबूत करना था, बल्कि सीसीपी इतिहास के आधिकारिक आख्यान को भी निर्धारित करना था जो भविष्य की नीतियों के लिए एक वैचारिक मार्गदर्शन प्रदान करेगा। इस सब में शी की केंद्रीयता के बावजूद - साथ ही साथ पार्टी के इतिहास पर एक प्रस्ताव के महत्व के बावजूद - घटनाओं की ये व्याख्या कुछ हद तक भ्रामक हो सकती है। कैसे माओ और तंग ने सत्ता को मजबूत किया सीसीपी के नेतृत्व की आंतरिक राजनीतिक गतिशीलता काफी हद तक अज्ञात है।

इसे भी पढ़ें: बांग्लादेश में ग्राम परिषद चुनाव के दौरान हिंसा में सात लोगों की मौत

टिप्पणीकार समूहों और गुटों के बारे में, नीति विभाजन और वरीयताओं के बारे में, पिछले अनुभवों और भविष्य के दृष्टिकोण के बारे में समझदारी से अनुमान लगाते हैं। शी राजनीतिक व्यवस्था में अग्रणी स्थान पर काबिज हैं, और 2012 से उनकी पकड़ मजबूत है। साथ ही, पार्टी में शी की वर्तमान स्थिति पूर्व नेताओं माओत्से तुंग और तंग श्याओ पिंग से भिन्न है, जब उन्होंने क्रमश: 1945 और 1981 में पार्टी के इतिहास पर पिछले प्रस्तावों की शुरुआत की थी। माओ और तंग दोनों के पास अच्छी तरह से स्थापित राजनीतिक अधिकार था जो कई मायनों में सीसीपी में उनके औपचारिक पदों से स्वतंत्र था। 1927 से 1940 के दशक की शुरुआत तक, माओ कई मायनों में पार्टी नेतृत्व से बाहर थे। राष्ट्रीय राजनीतिक शक्ति हासिल करने और जापानियों से लड़ने के लिए वह ग्रामीण आधारित, गुरिल्ला रणनीति के पैरोकार थे, जो अंततः सफल साबित हुआ - और दूसरों को गलत साबित कर दिया। यही 1945 में सीसीपी का राजनीतिक आधार बना। जब सीसीपी ने 1949 में चीन पर नियंत्रण करने के लिए इस रणनीति का इस्तेमाल किया, तो इसने अनिवार्य रूप से माओ को दूसरों पर लगभग एक अप्रतिरोध्य अधिकार प्रदान किया, जिसमें स्पष्ट रूप से करीबी सहयोगी (तंग सहित) शामिल थे। वह अधिकार सांस्कृतिक क्रांति के विकास में एक प्रमुख योगदान कारक था।

इसे भी पढ़ें: राष्ट्र को सम्बोधित कर रही थीं न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री,बीच में आई 3 साल की बेटी ने जीता दुनिया का दिल

1966 से लेकर 1976 में माओ की मृत्यु तक के वर्षों की ‘‘राजनीतिक त्रुटियों’’ की मान्यता, तंग के नेतृत्व में पारित पार्टी इतिहास पर 1981 के प्रस्ताव का एक प्रमुख बिंदु था। तंग 1970 के दशक के अंत में चीन में खुलापन और आर्थिक सुधार लाने में सक्षम थे। सीसीपी के शुरुआती विकास में उनकी भूमिका, यह तथ्य कि वह सांस्कृतिक क्रांति का शिकार रहे हैं, साथ ही 1930 के दशक की शुरुआत से माओ के खास लोगों में से एक थे, उनके पास अतीत की फिर से व्याख्या करने की शक्ति भी थी, उन वर्षों के दौरान, उन्होंने सीसीपी के नेतृत्व में दूसरों के साथ घनिष्ठ संबंध विकसित किए, जिससे उन्हें उस वक्त मदद मिली जब वह परेशानी थे, जैसे कि सांस्कृतिक क्रांति के दौरान। शी का समर्थन कितना मजबूत है? इसमें दो राय नहीं है कि सीसीपी के नेतृत्व में और यहां तक ​​कि पूर्व नेताओं में भी शी के करीबी समर्थक रहे हैं, हालांकि, अधिकांश समय वह उतने नजर नहीं आए, जितने माओ और तंग के मामले में थे। उन दोनों के समय, उनके कई समर्थक और सहयोगी अपेक्षाकृत प्रसिद्ध थे। शी के मामले में, यह उल्लेखनीय रूप से कम है। फिलहाल, उनके पास निश्चित रूप से उस हद तक राजनीतिक अधिकार नहीं हैं, जितने माओ और तंग के पास थे, हालांकि चीनी राष्ट्रपति और सीसीपी के महासचिव के रूप में उनके पदों पर उनका काफी सम्मान किया जा सकता है।

-डेविड गुडमैन निदेशक, चीन अध्ययन केंद्र, चीनी राजनीति के प्रोफेसर, सिडनी विश्वविद्यालय 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।