सुनैना शुक्ला ने बस्तर टॉक पर कहा कलाकार हमेशा जीवन के किरदारों को जीता है

सुनैना शुक्ला ने बस्तर टॉक पर कहा कलाकार हमेशा जीवन के किरदारों को जीता है

अभिनेत्री सुनैना शुक्ला कई टीवी सीरियल व फिल्मों में बेहतर अभिनय कर चुकी है। उन्होंने फिल्म टाईम नही है, अता पता लापता व चकरगिन्नी के साथ ही टीवी सीरियल्स कुंवारा है पर हमारा है, संकटमोचन हनुमान, अजब-गजब घर जमाई, जय-जय बजरंगबली व यारों का टशन,एक घर बनाऊंगा, चंद्रकांता में अभिनय कर चुकी हैं।

जगदलपुर। बस्तर टॉक के पहले सीजन में टीवी, युवा व रोजगार की संभावनाओं पर विचार रखते हुए अभिनेत्री सुनैना शुक्ला ने कहा हमेशा एक कलाकार समाज के किरदारों को जीता है। अपनी मौलिकता से उन किरदारों को सिनेमा के पर्दे व रंगमंच पर उतारने की कोशिश करता है। किरदार हमेशा कहानियों को कहने का जरिया होता है कहानियां हमें समाज के द्वंद से ही मिलती है।उन्होंने कहा कि वक्त के साथ सिनेमा, टीवी व रंगमंच का स्वरूप बदल रहा है। इसके हिसाब से ही वर्तमान में ट्रेनिंग और प्रैक्टिस की जरूरत है। आप तो सोचते हैं और कड़ी मेहनत से उन लक्ष्यों को प्राप्त कर लेते हैं क्योंकि सपना हमेशा मेहनत मांगता है और मेहनत सफलता देती है। 

इसे भी पढ़ें: बस्तर टॉक में बोले डॉ. सच्चिदानंद जोशी लोकजीवन में सात्विकता और वास्तविकता दोनों है

उन्होंने कहा कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के आने से अवसर अधिक है और स्वरोजगार की संभावनाएं बढ़ी है। इस माध्यम में एक नए बाजार को खड़ा किया है और अब इस क्षेत्र में और प्रशिक्षित लोगों की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हम जिस परिवेश के होते हैं वहां के लोक जीवन, लोक संस्कृति की बेहतर समझ होनी चाहिए और उन सब से हम एक किरदार के स्वरूप को तय कर सकते है। कलाकार सीमाओं से उठकर हमेशा अपनी बातों को चित्रों के माध्यम से कहता है जो जीवन के दर्शन का प्रस्तुतकर्ता है। 

इसे भी पढ़ें: आम लोगों की समस्याओं को उठाने वाले साहित्यकार के रूप में जाने जाते हैं भीष्म साहनी

अभिनेत्री सुनैना शुक्ला कई टीवी सीरियल व फिल्मों में बेहतर अभिनय कर चुकी है। उन्होंने फिल्म टाईम नही है, अता पता लापता व चकरगिन्नी के साथ ही टीवी सीरियल्स कुंवारा है पर हमारा है, संकटमोचन हनुमान, अजब-गजब घर जमाई, जय-जय बजरंगबली व यारों का टशन,एक घर बनाऊंगा, चंद्रकांता में अभिनय कर चुकी हैं। इसके साथ ही राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के व श्रीराम सेंटर नई दिल्ली के रंगमंडल में कार्यरत रहीं हैं। वह भारतेंदु नाट्य एकेडमी की छात्रा भी रही हैं।