मध्यप्रदेश में सत्ता परिवर्तन के 100 दिन, कांग्रेस नेताओं ने झांझ-मजीरे बजाकर मनाया काला दिवस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 30, 2020   14:40
मध्यप्रदेश में सत्ता परिवर्तन के 100 दिन, कांग्रेस नेताओं ने झांझ-मजीरे बजाकर मनाया काला दिवस

रणदिवे ने कहा, शिवराज ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही सूबे को कोविड-19 के चंगुल से बाहर निकालने के कदम उठाने शुरू कर दिये थे। इन कदमों के कारण राज्य में यह महामारी नियंत्रित स्थिति में है।

इंदौर। मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की अगुवाई वाली भाजपा सरकार के 100 दिन पूरे होने पर मंगलवार को कांग्रेस नेताओं ने यहां काला दिवस मनाते हुए झांझ-मजीरे बजाए और भजन गाया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार शहर कांग्रेस अध्यक्ष विनय बाकलीवाल की अगुवाई में करीब 25 पार्टी नेता रीगल तिराहे के पास काले कपड़ों में पहुंचे। उन्होंने झांझ-मजीरे बजाते हुए रघुपति राघव राजा राम.. भजन गाया। इसदौरानकांग्रेस नेताओं ने आरोप लगाया कि भाजपा ने साजिश के तहत लोकतंत्र की हत्या करते हुए 100 दिन पहले सूबे की कमलनाथ नीत कांग्रेस सरकार गिरायी।

उन्होंने कहा कि मौजूदा शिवराज सरकार कोविड-19 की रोकथाम समेत सभी मोर्चों पर नाकाम साबित हुई है। उधर, भाजपा की शहर इकाई के अध्यक्ष गौरव रणदिवे ने इस आरोप को खारिज करते हुए कहा, मतदाताओं से धोखाधड़ी और कांग्रेस के अहंकार के कारण लड़खड़ायी कमलनाथ सरकार खुद गिर गयी थी। रणदिवे ने कहा, शिवराज ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही सूबे को कोविड-19 के चंगुल से बाहर निकालने के कदम उठाने शुरू कर दिये थे। इन कदमों के कारण राज्य में यह महामारी नियंत्रित स्थिति में है। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कांग्रेस पिछड़ा वर्ग जलाएगा मोदी, शाह और शिवराज का पुतला

गौरतलब है कि कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के त्यागपत्र देकर भाजपा में शामिल होने के कारण तत्कालीन कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गयी थी। इस कारण कमलनाथ को 20 मार्च को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। इसके बाद शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में भाजपा 23 मार्च को सूबे की सत्ता में लौट आयी थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।