सोनिया गांधी पर टिप्पणी मामले में पत्रकार से 12 घंटे हुई पूछताछ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 28, 2020   08:20
सोनिया गांधी पर टिप्पणी मामले में पत्रकार से 12 घंटे हुई पूछताछ

अर्नब गोस्वामी ने पत्रकारों से कहा कि वह सोनिया गांधी के खिलाफ की गई टिप्पणी पर कायम है और उन्होंने जो भी कहा बिल्कुल सही है। उन्होंने पुलिस के समक्ष अपना पक्ष रखा और वे उससे पूरी तरह से संतुष्ट थे। उन्होंने बताया कि पुलिस ने उन्हें नोटिस भेज सुबह पूछताछ के लिए तलब किया था।

मुंबई। महाराष्ट्र के पालघर में भीड़ द्वारा तीन साधुओं की पीट-पीट कर हत्या के संदर्भ में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ कथित रूप से अपमानजनक टिप्पणी करने के आरोपी तथा रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी से पुलिस ने सोमवार को पूछताछ की। स्थानीय कांग्रेस नेता द्वारा दर्ज कराए गए मामले के आधार पर पुलिस ने गोस्वामी से मध्य मुंबई स्थित एनएम जोशी मार्ग पुलिस थाने में पूछताछ की। पुलिस थाने के बाहर आने के बाद गोस्वामी ने दावा किया कि कांग्रेस अध्यक्ष के खिलाफ टिप्पणी के मामले में उनसे करीब 12 घंटे तक पूछताछ की गई। उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र में शिवसेना के नेतृत्व वाली सरकार में कांग्रेस सहयोगी है।

इसे भी पढ़ें: न्यायालय ने अर्णब गोस्वामी को दंडात्मक कार्रवाई से तीन सप्ताह के लिये दिया संरक्षण

गोस्वामी ने पत्रकारों से कहा कि वह सोनिया गांधी के खिलाफ की गई टिप्पणी पर कायम है और उन्होंने जो भी कहा बिल्कुल सही है।   गोस्वामी ने कहा कि उन्होंने पुलिस के समक्ष अपना पक्ष रखा और वे उससे पूरी तरह से संतुष्ट थे। उन्होंने बताया कि रविवार को पुलिस ने उन्हें नोटिस भेज सोमवार की सुबह पूछताछ के लिए तलब किया था। गोस्वामी ने कहा, ‘‘तथ्य और सबूत पेश कर दिए हैं और सच सामने आएगा।’’ पुलिस उपायुक्ति (जोन-3) अविनाश कुमार ने कहा, ‘‘हमने उनका बयान दर्ज किया है और आगे की जांच जारी है।’’ उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को गोस्वामी को इस मामले में तीन हफ्ते के लिए किसी भी कार्रवाई से संरक्षण दिया था। इसके साथ ही नागपुर में दर्ज मामले को छोड़कर इसी संबंध में दर्ज मामलों में कार्रवाई पर रोक लगा दी थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।