मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के 1,252 नए मामले, 17 लोगों की मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 29, 2020   09:56
मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के 1,252 नए मामले, 17 लोगों की मौत

पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण से इन्दौर में चार, जबलपुर एवं भोपाल में तीन-तीन, ग्वालियर में दो और बैतूल, होशंगाबाद,शहडोल, कटनी एवं नरसिंहपुरमें एक-एक मरीज की मौत की पुष्टि हुई है।

भोपाल। मध्य प्रदेश में शुक्रवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 1,252 नए मामले सामने आए और इसके साथ ही प्रदेश में इस वायरस से अब तक संक्रमित हुए लोगों की कुल संख्या 59,433 हो गई है। राज्य में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी से 17 और व्यक्तियों की मौत की पुष्टि हुई है जिससे मरने वालों की संख्या 1,323 हो गई है। मध्य प्रदेश के एक स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा, ‘‘पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण से इन्दौर में चार, जबलपुर एवं भोपाल में तीन-तीन, ग्वालियर में दो और बैतूल, होशंगाबाद,शहडोल, कटनी एवं नरसिंहपुरमें एक-एक मरीज की मौत की पुष्टि हुई है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘राज्य में अब तक कोरोना वायरस से सबसे अधिक 379 मौत इन्दौर में हुई हैं। भोपाल में 270, उज्जैन में 79, सागर में 49, जबलपुर में 74, ग्वालियर में 42,बुरहानपुर में 25, खंडवा में 21, एवं खरगोन में 26 लोगों की मौत हुई हैं। बाकी मौत अन्य जिलों में हुई हैं।’’ अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में शुक्रवार को कोविड-19 के सबसे अधिक 198 नए मामले इंदौर जिले में आए हैं,जबकि भोपाल में 131, ग्वालियर में 118 एवं जबलपुर में 124 नए मामले आए। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में अंतिम वर्ष की परीक्षा और परिणाम 30 सितंबर से पहले

उन्होंने कहा कि प्रदेश में कुल 59,433 संक्रमित लोगों में से अब तक 45,396 मरीज स्वस्थ होकर घर चले गए हैं और 12,714 मरीजों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। उन्होंने कहा किशुक्रवार 943 रोगियों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। अधिकारी ने बताया कि वर्तमान में राज्य में कुल 4,885 निषिद्ध क्षेत्र हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।