• क्या खत्म होगा भारत-चीन के बीच का विवाद ? शनिवार को 12वें दौर की कोर कमांडर स्तर की होगी वार्ता

गलवान घाटी से सटे इलाकों में फिलहाल शांति है लेकिन आए दिन चीन उकसावे की कार्रवाई करता रहता है। हालांकि तनाव को कम करने के लिए दोनों देशों के बीच में कई दौर की वार्ता हो चुकी है।

लद्दाख। वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीन के बीच तनाव जारी है। इसी सिलसिले में शनिवार को भारत और चीन के बीच में 12वें दौर की कोर कमांडर स्तर की वार्ता होने वाली है। यह वार्ता चीनी हिस्से के मोल्दो में होगी। जहां पर दोनों देशों के बीच में हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा हाइट्स एरिया से डिसइंगेजमेंट पर चर्चा होने की उम्मीदें हैं। 

इसे भी पढ़ें: CPC के सेमिनार में लद्दाख और गलवान पर दिया ज्ञान, येचुरी और डी राजा बैठकर सुन रहे थे चीन का गुणगान 

आपको बता दें कि गलवान घाटी से सटे इलाकों में फिलहाल शांति है लेकिन आए दिन चीन उकसावे की कार्रवाई करता रहता है। हालांकि तनाव को कम करने के लिए दोनों देशों के बीच में कई दौर की वार्ता हो चुकी है। जिसके बाद पैंगॉन्ग लेक समेत कुछ जगहों से डिसइंगेजमेंट हुआ है लेकिन अभी भी कई स्थान ऐसे है जहां पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक एलएसी में जारी तनाव को कम करने के लिए शनिवार को 12वें दौर की वार्ता होनी है। इस वार्ता में डिसइंगेजमेंट जिसका मतलब है कि सैनिकों के पीछे हटने के विषय पर बातचीत होगी। हॉट स्प्रिंग, गोगरा समेत कई इलाकों में अभी भी तनाव बना हुआ है। 

इसे भी पढ़ें: बाज नहीं आ रहा चीन, भारत की ओर डेमचोक इलाके में लगाए तंबू, मना करने के बावजूद नहीं हटे पीछे ! 

गौरतलब है कि पिछले साल अप्रैल में गलवान घाटी में हुई झड़प में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे। जिसके बाद से तनाव और भी ज्यादा बढ़ गया था और कई मौको पर दोनों देशों के सेनाएं आमने-सामने नजर आईं लेकिन बातचीत के जरिए मामले को सुलझाने का प्रयास किया जा रहा है।