दर्दनाक यमुना एक्सप्रेस वे: इस साल हुए हादसों में 154 लोगों ने गंवाई अपनी जान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 21, 2019   16:44
दर्दनाक यमुना एक्सप्रेस वे: इस साल हुए हादसों में 154 लोगों ने गंवाई अपनी जान

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली को आगरा से जोड़ने वाली इस 165 किलोमीटर लंबी सड़क पर 31 जुलाई तक 357 हादसे हुए जिनमें 822 लोग घायल हुए और 145 ने अपनी जान गंवाई।

नोएडा। उत्तर प्रदेश के यमुना एक्सप्रेस वे पर इस साल हुए हादसों में अब तक 154 लोगों ने अपनी जान गंवाई है। वर्ष 2012 में परिचालन में आने के बाद से किसी एक साल में मौतों की यह सबसे अधिक संख्या है। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली को आगरा से जोड़ने वाली इस 165 किलोमीटर लंबी सड़क पर 31 जुलाई तक 357 हादसे हुए जिनमें 822 लोग घायल हुए और 145 ने अपनी जान गंवाई। यह जानकारी आगरा के वकील कृष्ण चंद जैन की ओर से सूचना के अधिकार के तहत मांगी गई जानकारी में दी गई है। 

इसे भी पढ़ें: नेशनल हाईवे पर बस ने ट्रक को टक्कर मारी, 6 लोगों की मौत, 15 जख्मी

अगस्त और सितंबर में ग्रेटर नोएडा में एक्सप्रेस वे पर तीन सड़क हादसों की जानकारी दी थी जिसमें तीन छात्रों सहित नौ लोगों की मौत हुई थी। इस प्रकार इस साल अब तक 154 लोगों की मौत हुई है। यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (वाईईआईडीए)की ओर से दी गई सूचना के मुताबिक इससे पहले सबसे अधिक मौतें वर्ष 2017 में दर्ज की गई थीं। तब कुल 763 हादसों में 146 लोगों ने जान गंवाई थी।

इसे भी पढ़ें: CBI ने उन्नाव बलात्कार पीड़िता का सड़क दुर्घटना मामले में बयान किया दर्ज

वाईईआईडीए ने बताया कि एक्सप्रेस वे पर हादसों को रोकने के लिए कई कदम उठाए गए हैं जिसमें छोटे वाहनों की गति सीमा 100 किलोमीटर प्रति घंटे और भारी वाहनों की गति सीमा 60 किलोमीटर प्रति घंटे तय करना, कई स्थानों पर अवरोधक, चेतावनी देने वाले बोर्ड लगाना आदि शामिल हैं।

संयुक्त राष्ट्र महासभा का 74वां सत्र, पूरी जानकारी के लिए वीडियो देखें:





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।