UP में अब तक 1,778 व्यक्ति संक्रमित, 248 लोग पूरी तरह से हो चुके हैं ठीक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 25, 2020   17:46
UP में अब तक 1,778 व्यक्ति संक्रमित, 248 लोग पूरी तरह से हो चुके हैं ठीक

प्रमुख सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि प्रदेश में ‘एक्टिव केसेज’ (अभी भी संक्रमित मामलों) की संख्या 1,504 है। कुल 57 जिलों से संक्रमण के 1,778 मामले सामने आये हैं।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में शनिवार को कोरोना वायरस से अभी भी संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 1,504 हो गयी। प्रमुख सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने यहां संवाददाताओं से कहा कि प्रदेश में ‘एक्टिव केसेज’ (अभी भी संक्रमित मामलों) की संख्या 1,504 है। कुल 57 जिलों से संक्रमण के 1,778 मामले सामने आये हैं। कुल 248 लोग पूर्णतया उपचारित होकर घर जा चुके हैं जबकि 26 लोगों की दुभार्ग्यपूर्ण मृत्यु हो गयी है। प्रसाद ने बताया कि मृतकों में अधिकांश लोग या तो अधिक उम्र के थे या फिर किसी अन्य बीमारी से ग्रस्त थे। इसीलिए हम बार बार अनुरोध कर रहे हैं कि बुजुर्गों को संक्रमण से बचाना है। 

इसे भी पढ़ें: मेडिकल कॉलेज का एक और जूनियर डॉक्टर कोरोना वायरस से हुआ संक्रमित 

उन्होंने बताया कि वैसे 60 साल से अधिक उम्र के लोगों में संक्रमण का प्रतिशत पहले दस प्रतिशत से अधिक था जो अब घटकर 7.93 प्रतिशत रह गया है। प्रसाद ने बताया कि कल 4,115 नमूने जांच के लिए लिये गये। कुल 3,719 नमूने लैब भेजे गये। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज कहा कि अस्पतालों से जो संक्रमण हो रहा है, यह संक्रमण का बड़ा स्रोत निकल कर आ रहा है। कई जिलों में अस्पतालों से संक्रमण फैला है। प्रसाद ने बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि अस्पतालों में संक्रमण रोकथाम प्रोटोकाल की पूरी तैयारी हो। उस क्रम में हम लोगों ने आज तय किया कि हर जिले में संक्रमण रोकथाम प्रोटोकाल होगा और अपर मुख्य चिकित्साधिकारी के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: भारत में मानसून में कोविड-19 प्रकोप का दूसरा दौर आ सकता है सामने: वैज्ञानिक 

उन्होंने बताया कि टीम में आईएमए के प्रतिनिधि, डाक्टर, डब्ल्यूएचओ, यूनिसेफ के प्रतिनिधि, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी शामिल होंगे। कल तक समिति का गठन कर दिया जाएगा। प्रमुख सचिव ने बताया कि सरकारी अस्पतालों में संक्रमण रोकथाम के लिए मौके पर प्रशिक्षण दिया गया है। निजी अस्पतालों को भी जूम प्लेटफार्म पर ट्रेनिंग दी गयी है। उन्होंने कहा कि मैं फिर से दोहरा रहा हूं कि इस संक्रमण से घबरायें नहीं बल्कि हमें इससे बचना है। बचाव ही सबसे अच्छा तरीका है। इसके लिए हाथ साबुन-पानी से धोयें, एकदूसरे से दूरी बनाये रखने के नियम का पालन करें, चेहरे मास्क या गमछा बांधें और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय करें। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।