दिल्ली के एक होटल में भीषण आग लगने से 17 लोगों की मौत, 35 घायल

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Feb 12 2019 8:49PM
दिल्ली के एक होटल में भीषण आग लगने से 17 लोगों की मौत, 35 घायल

करोलबाग अग्निकांड मामले में दमकल विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि करोलबाग में ‘अर्पित पैलेस’ होटल की पहली मंजिल पर आग तड़के साढ़े तीन बजे लगी। होटल में कई लोग उस समय गहरी नींद में थे जिस कारण वे फंस गए।

नयी दिल्ली। मध्य दिल्ली के करोलबाग स्थित एक चार मंजिला होटल में मंगलवार तड़के भीषण आग लगने से 17 लोगों की मौत हो गई। इनमें वे दो लोग भी शामिल हैं जो अपनी जान बचाने के लिए इमारत से कूद गए थे। मृतकों में एक बच्चा भी शामिल है। हादसे में 35 लोग घायल भी हुए हैं। दमकल विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि करोलबाग में ‘अर्पित पैलेस’ होटल की पहली मंजिल पर आग तड़के साढ़े तीन बजे लगी। होटल में कई लोग उस समय गहरी नींद में थे जिस कारण वे फंस गए। बच्चे और इमारत से कूदने वाले दो लोगों की पहचान अब तक नहीं हो पाई है।

निकाय अधिकारियों ने कहा कि शुरुआती जांच में ऐसा लगता है कि आग शॉर्ट सर्किट के कारण लगी। अधिकारियों ने बताया कि 45 कमरों के इस सस्ते होटल में हादसे के समय 53 लोग थे। उसकी छत पर एक छतरी सी लगी थी जिससे प्रतीत होता है कि वहां रेस्तरां था। एक चश्मदीद द्वारा बनाये गये वीडियो में छत से आग की लपटें उठती हुई नजर आ रही हैं। दिल्ली दमकल विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आग लगने की सूचना आग लगने से करीब एक घंटे बाद सुबह चार बजकर 35 मिनट पर मिली और तुरंत दमकल विभाग की 24 गाड़ियां मौके पर भेजी गईं।

इसे भी पढ़ें: अग्निकांड मामले पर बोले अल्फोंस, होटल के आपातकालीन द्वार पर लगा था ताला

पुलिस उपायुक्त (नई दिल्ली) मधुर वर्मा ने बताया कि एक व्यक्ति अब भी लापता है। उन्होंने बताया, ‘43 वर्षीय एक महिला 45 फीसदी झुलस गई है।’ उन्होंने संवाददाताओं को बताया कि 13 शवों को राम मनोहर लोहिया अस्पताल (आरएमएल), दो शवों को लेडी हार्डिंग अस्पताल और दो शव को बीएलके अस्पताल ले जाया गया। 13 शवों में से दस की पहचान हो गई है, जिनमें से तीन केरल, एक गुजरात और दो म्यामां के निवासी हैं। अन्य चार की पहचान हो गई है लेकिन यह पता करने का प्रयास किया जा रहा है कि वे कहां से आए थे। 

गाजियाबाद में एक शादी में शिरकत करने अपने परिवार के साथ केरल से दिल्ली आए सोमशेखर ने कहा कि यह एक ना खत्म होने वाला बुरा सपना था। जब आग लगी तो वे सभी होटल से हरिद्वार जाने की तैयारी कर रहे थे। उन्होंने बताया कि उनकी बहन ने ही उन्हें धुएं के बारे में बताया और क्या हुआ है यह देखने बाहर गई। इसके बाद से वह लापता है। उन्होंने कहा, ‘हर जगह धुआं-धुआं था। उस समय मेरी बहन, मां और भाई के साथ थी। मैं तुरंत कमरे में आया और ताजा हवा के लिए कमरा खोला और हम वहां से निकले। हम होटल की दूसरी मंजिल पर थे।’



इसे भी पढ़ें: ESIC कामगार अस्पताल में आग लगने से 8 लोगों की मौत

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी हादसे में लोगों की मौत पर शोक प्रकट किया। मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘दिल्ली के करोलबाग में आग लगने के कारण लोगों की मौत से काफी दुखी हूं। मारे गए लोगों के परिजन के प्रति मेरी संवेदनाएं।’ अधिकारियों ने कहा कि ज्यादातर मौतें दम घुटने से हुई जबकि अन्य लोगों की जान आग में झुलसने से गई। कुछ इस्तेमाल किए अग्निशामक मिले हैं, जिससे प्रतीत होता है कि अंदर फंसे लोगों ने आग बुझाकर वहां से निकलने की कोशिश की। लेकिन वहां से निकलना असंभव हो गया होगा। केन्द्रीय पर्यटन मंत्री के जे अल्फोंस ने कहा कि होटल का आपातकालीन द्वार ‘‘बहुत संकरा’’ था और उस पर ताला लगा था। 

उन्होंने कहा कि होटल में लकड़ी के कई ढांचे थे जिससे आग फैलने की आशंका है। उधर, ‘दिल्ली होटल एंड रेस्तरां ऑनर्स एसोसिएशन’ के प्रमुख संदीप खंडेलवाल ने दावा किया कि दमकल विभाग की गाड़ियां 15-20 मिनट की देरी से पहुंचीं क्योंकि इलाके में रात में सुरक्षा के लिए अवरोधक लगाए गए थे और दमकल की गाड़ियों को होटल तक पहुंचने के लिए लंबे रास्ते से जाना पड़ा। दिल्ली सरकार ने मामले में मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए हैं।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के एक होटल में लगी भीषण आग, 17 लोगों की मौत

दिल्ली सरकार में गृह मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि उन्होंने दमकल विभाग से पांच या उससे अधिक मंजिला इमारतों का निरीक्षण करने और एक सप्ताह के भीतर उनके अग्नि सुरक्षा अनुपालन पर एक रिपोर्ट देने को कहा है। उन्होंने कहा, ‘17 लोगों की जान चली गई है, जिनमें से अधिकतर लोगों की दम घुटने से मौत हुई है। (होटल प्रबंधन की तरफ से) खामियां नजर आ रही हैं। दोषियों के खिलाफ जल्द कार्रवाई की जाएगी।’ इस होटल को अक्टूबर 2005 में लाइसेंस दिया गया और हर साल इसका नवीनीकरण हो रहा था। पिछली बार लाइसेंस का नवीनीकरण 25 मई 2018 को किया गया था जो इस साल 31 मार्च तक मान्य है।



उत्तरी दिल्ली नगर निगम के एक अधिकारी ने कहा, ‘मौके से मिली जानकारी के अनुसार होटल की दूसरी मंजिल पर शॉर्ट सर्किट के कारण 12 फरवरी को तड़के साढ़े तीन बजे आग लगी।’ नगर निगम ने जांच के आदेश दिये हैं जिसकी रिपोर्ट तीन दिन में आने की संभावना है। दमकल विभाग के अधिकारियों ने कहा कि होटल की छत पर एक छतरी सी लगी थी जिससे प्रतीत होता है कि वहां रेस्तरां चलाया जाता था। कमरों में लकड़ी के पैनल लगे होने के कारण भी शायद आग तेजी से फैली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मृतकों के परिजनों को पांच लाख रुपये का मुआवजा देने का एलान किया। दिल्ली सरकार ने आप सरकार के चार साल पूरे होने पर आयोजित किए जा रहे एक समारोह को रद्द करने का आदेश भी दिया है।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


Related Story

Related Video