त्रिपुरा में कोरोना के 37 नए मामलों के साथ संक्रमितों की तादाद 3,900 के पार, दो और मरीजों ने तोड़ा दम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 27, 2020   16:24
त्रिपुरा में कोरोना के 37 नए मामलों के साथ संक्रमितों की तादाद 3,900 के पार, दो और मरीजों ने तोड़ा दम

मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने बताया कि 126 मरीजों को जिला कोविड केंद्रों और कोविड-19 अस्पतालों से इलाज के बाद छुट्टी मिल गई है। उन्होंने कहा कि वे सभी कोविड-19 मरीजों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हैं। राज्य में कुल 3,920 संक्रमित मरीजों में से 2,362 स्वस्थ हो चुके हैं।

अगरतला। त्रिपुरा में कोविड-19 से दो और लोगों की मौत के बाद राज्य में अब तक इस खतरनाक वायरस से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 13 हो गई। वहीं संक्रमण के 37 नए मामले सामने आने के बाद कुल संक्रमितों की संख्या 3,920 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि 76 वर्षीय एक व्यक्ति की मौत गोमती जिले के एक अस्पताल में रविवार को हुई। वे गुर्दे की बीमारी से पीड़ित थे। वहीं 24 जुलाई से एक निजी अस्पताल में इलाज करा रहे 84 वर्षीय एक अन्य व्यक्ति की पश्चिमी त्रिपुरा जिले में मौत हो गई। वह हृदय की बीमारी से ग्रसित थे। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना संकट के बीच अच्छी खबर, 36 मिनट में आएंगे कोविड-19 जांच के नतीजे 

मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने रविवार रात में दो मरीजों की मौत की जानकारी ट्वीट के माध्यम से दी थी। वहीं उन्होंने एक अन्य ट्वीट में बताया कि 126 मरीजों को जिला कोविड केंद्रों और कोविड-19 अस्पतालों से इलाज के बाद छुट्टी मिल गई है। उन्होंने कहा कि वे सभी कोविड-19 मरीजों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हैं। राज्य में कुल 3,920 संक्रमित मरीजों में से 2,362 स्वस्थ हो चुके हैं। राज्य में बढ़ते मामलों को देखते हुए सोमवार सुबह पांच बजे से तीन दिन का लॉकडाउन शुरू हुआ है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि कोविड-19 के संदिग्ध मरीजों का पता लगाने के लिए घर-घर जाकर सर्वेक्षण हो रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।