पूर्वी उत्तर प्रदेश के 20 लाख परिवारों को मिलेगा पीएनजी कनेक्‍शन

पूर्वी उत्तर प्रदेश के 20 लाख परिवारों को मिलेगा पीएनजी कनेक्‍शन

सीएम योगी ने कुछ रोज पहले ही गोरखपुर में पाइपलाइन से पीएनजी आपूर्ति की शुरुआत की थी। सीएम ने 101 लोगों के पीएनजी कनेक्‍शन वितरित किए थे। इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि पीएनजी परम्परागत गैस सिलेंडर से सस्ती होगी। इससे करीब 35-40 फीसद की बचत होगी। साथ ही पाइप लाइन से आपूर्ति मिलने से गैस सिलेंडर ढोने की समस्या भी समाप्त होगी।

लखनऊ। यूपी के लोगों को रसोई गैस का सिलेंडर अब नहीं लाना होगा। सरकार उनके रसोई घर तक पाइप के जरिये गैस पहुंचाने की तैयारी कर रही है। पूर्वाी उत्तर प्रदेश के लगभग 20 लाख परिवारों को सरकार पीएनजी कनेक्‍शन देने जा रही है।

इसके लिए पश्चिम बंगाल के हल्दिया से यूपी के जगदीश पुर तक 2050 किलोमीटर लंबी गैस पाइप लाइन बिछाने की योजना है। केंद्र के सहयोग वाली इस योजना पर राज्‍य सरकार ने काम शुरू कर दिया है। पीएनजी कनेक्‍शन मिलने से लोगों को रसोई गैस उठा कर लाने की परेशानी के साथ ही घटतौली की आशंका से भी निजात मिल जाएगी। 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में कोरोना के कुल 145 एक्टिव मामले, कोविड वैक्सीनेशन का कार्य निरन्तर जारी 

पीएनजी कनेक्‍शन किफायती और सुरक्षित भी होगा। केंद्र सरकार की ऊर्जा गंगा योजना के तहत गैस पाइप लाइन की योजना पर काम शुरू कर दिया गया है।

गौरतलब है कि सीएम योगी ने कुछ रोज पहले ही गोरखपुर में पाइपलाइन से पीएनजी आपूर्ति की शुरुआत की थी। सीएम ने 101 लोगों के पीएनजी कनेक्‍शन वितरित किए थे। इस दौरान सीएम योगी ने कहा कि पीएनजी परम्परागत गैस सिलेंडर से सस्ती होगी। इससे करीब 35-40 फीसद की बचत होगी। साथ ही पाइप लाइन से आपूर्ति मिलने से गैस सिलेंडर ढोने की समस्या भी समाप्त होगी। जितना खर्च होगा, उतना ही बिल आएगा। यानी गैस चोरी की शिकायत भी नहीं रहेगी। कोई भी मौसम हो, रसोई गैस की किल्लत नहीं होगी। सीएम योगी ने कहा कि सीएनजी और पीएनजी के माध्यम से पीएम मोदी की स्वच्छ ईंधन की परिकल्पना साकार हो रही है। 

इसे भी पढ़ें: लखीमपुर हिंसा: शनिवार को पुलिस के सामने पेश होगा आशीष मिश्रा, मंत्री ने कहा- मेरा बेटा बेगुनाह है 

यही नहीं राजधानी लखनऊ समेत प्रदेश के कई महानगरों में भी पाइप के जरिये रसोई गैस की सप्‍लाई शुरू की जा रही है। कुछ शहरों में पीएनजी कनेक्‍शन भी दिए जा चुके हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।