केजरीवाल के अभियान के बावजूद डेंगू के 217 और मलेरिया के 304 मामले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 24, 2019   08:40
केजरीवाल के अभियान के बावजूद डेंगू के 217 और मलेरिया के 304 मामले

सितंबर में मलेरिया के 150, अगस्त में 56, जुलाई में 54, जून में 35, मई में आठ और अप्रैल में एक मामला सामने आया था।

नयी दिल्ली। दिल्ली में डेंगू के मुकाबले मलेरिया के ज्यादा मामले सामने आए हैं। दिल्ली में बीते एक हफ्ते में डेंगू के करीब 50 नए मामलों की जानकारी मिली है। इसी के साथ मच्छर के काटने से होने वाली बीमारी से प्रभावित लोगों की संख्या 217 हो गई है। नगर निकाय की ओर से सोमवार जारी की गई रिपोर्ट में बताया गया है कि 21 सितंबर मलेरिया के 304 मामले दर्ज किए हैं। सितंबर में मलेरिया के 150, अगस्त में 56, जुलाई में 54, जून में 35, मई में आठ और अप्रैल में एक मामला सामने आया था।

इसे भी पढ़ें: जानिये डेंगू बीमारी के लक्षण और बचाव के उपाय

शहर में मच्छर से होने वाली बीमारी के आंकड़ों का संकलन करने वाली दक्षिण दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) के मुताबिक, डेंगू के कुल 217 मामलों में से सितंबर में 125, अगस्त में 52, जुलाई में 18, जून में 11 और अन्य जनवरी से मई के बीच में सामने आए थे। यह इस साल किसी भी महीने में दर्ज किए गए मलेरिया और डेंगू के मामलों की अधिकतम संख्या है। बीते कई हफ्तों में दिल्ली में डेंगू के मुकाबले मलेरिया के ज्यादा मामले आए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, इस साल चिकुनगुनिया के कम से कम 74 मामले आए हैं।

इसे भी पढ़ें: डेंगू के खिलाफ दिल्ली सरकार का अभियान जारी, केजरीवाल ने हर्षवर्धन को आमंत्रित किया

एसडीएमसी के मुताबिक, पिछले साल डेंगू के 2,789 मामले आए थे और चार लोगों की मौत हुई थी। दिल्ली सरकार और स्थानीय निकाय मच्छरों के प्रजनन को रोकने के लिए जागरूकता फैला रहा है। डेंगू का मच्छर साफ और ठहरे हुए पानी में होता है जबकि मलेरिया का मच्छर गंदे पानी में होता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...