गृह मंत्रालय का बड़ा फैसला, चुनावी राज्यों में तैनात किए जाएंगे CAPF के 25 हजार कर्मी

CAPF
अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने आगामी विधानसभा चुनावों के दौरान केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी), केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) और सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) की कुल 250 कंपनी तैनात करने का निर्देश दिया है।
नयी दिल्ली। चार राज्यों और एक केंद्रशासित प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव के दौरान केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) के कम से कम 25,000 कर्मी तैनात किए जाएंगे। अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने आगामी विधानसभा चुनावों के दौरान केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी), केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) और सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) की कुल 250 कंपनी तैनात करने का निर्देश दिया है। सीएपीएफ की एक कंपनी में लगभग 100 कर्मी होते हैं। ये बल केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन काम करते हैं। 

इसे भी पढ़ें: बंगाल में हिंसा के माहौल को समाप्त करने के प्रयास होने चाहिए: पीयूष गोयल

पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में इस साल अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होना है। अधिकारियों ने बताया कि 125 कंपनी पश्चिम बंगाल भेजी जा रही हैं, जबकि तमिलनाडु के लिए 45, असम के लिए 40, केरल के लिए 30 और पुडुचेरी में 10 कंपनी भेजी जा रही हैं। घटनाक्रम से अवगत एक अधिकारी ने पीटीआई-से कहा, ‘‘यह संख्या कुछ समय पहले गृह मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ निर्वाचन आयोग की बैठक में हुए प्रारंभिक आकलन पर आधारित है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘निर्वाचन आयोग के चुनाव की तारीखों और इसके चरणों की घोषणा किए जाने के बाद इस संख्या में कुछ वृद्धि हो सकती है।’’ 

इसे भी पढ़ें: 22 फरवरी को असम और पश्चिम बंगाल का दौरा करेंगे प्रधानमंत्री मोदी

अधिकारी ने कहा कि लगभग 75कंपनी अतिरिक्त रूप से तैयार रखी गई हैं और उनकी जरूरत महसूस होने पर उन्हें चुनाव ड्यूटी में लगाया जाएगा। सीएपीएफ की 250 कंपनियों में से 85 सीआरपीएफ से, 60बीएसएफ से और 40 आईटीबीपी से भेजी जा रही हैं। शेष कंपनी सीआईएसएफ और एसएसबी से भेजी जा रही हैं। अधिकारियों ने कहा कि बलों से संबंधित जगहों पर चरणबद्ध तरीके से पहुंचने और अपनी कंपनियों को ‘पहले से ही तैनात’ करने को कहा गया है, ताकि समूची तैनाती सुगम तरीके से हो सके। पश्चिम बंगाल में अब तक सीएपीएफ की कम से कम 12 कंपनी पहुंच चुकी हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़