भारत में कोविड-19 के 29,616 नए मामले, 290 मरीजों की मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 25, 2021   11:06
भारत में कोविड-19 के 29,616 नए मामले, 290 मरीजों की मौत

भारत में कोरोना वायरस के 29,616 नए मामले आने से संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 3,36,24,419 पर पहुंच गयी जबकि उपचाराधीन मरीजों की संख्या में 1,280 की वृद्धि होने से संक्रमण का इलाज करा रहे मरीजों की कुल संख्या 3,01,442 हो गयी है।

नयी दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस के 29,616 नए मामले आने से संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 3,36,24,419 पर पहुंच गयी जबकि उपचाराधीन मरीजों की संख्या में 1,280 की वृद्धि होने से संक्रमण का इलाज करा रहे मरीजों की कुल संख्या 3,01,442 हो गयी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के शनिवार को सुबह आठ बजे तक अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, 290 और मरीजों के जान गंवाने से मृतकों की संख्या बढ़कर 4,46,658 हो गयी है। उपचाराधीन मरीजों की संख्या संक्रमण के कुल मामलों का 0.90 प्रतिशत है जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर 97.78 प्रतिशत है जो मार्च 2020 के बाद से सबसे अधिक है।

इसे भी पढ़ें: शिमला में पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जन्म दिवस के अवसर पर भाजपा नेताओं ने उनके आदर्शो को अपनाकर संगठन को मजबूत करने का संकल्प लिया

आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में कोविड-19 का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या में 1,280 की वृद्धि हुई है। संक्रमण की दैनिक दर 1.86 प्रतिशत जबकि साप्ताहिक संक्रमण दर 1.99 प्रतिशत दर्ज की गयी। साप्ताहिक संक्रमण दर पिछले 92 दिनों से तीन प्रतिशत से कम है। देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितंबर को 40 लाख से अधिक हो गई थी। वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितंबर को 50 लाख, 28 सितंबर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख और 20 नवंबर को 90 लाख के पार चले गए थे। देश में 19 दिसंबर को ये मामले एक करोड़ के पार, इस साल चार मई को दो करोड़ के पार और 23 जून को तीन करोड़ के पार चले गए थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।