सेना ने 2 दिन का किया वादा, 24 घंटे के अंदर ही किया पूरा, कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या में शामिल 3 आतंकी ढेर

सेना ने 2 दिन का किया वादा, 24 घंटे के अंदर ही किया पूरा, कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या में शामिल 3 आतंकी ढेर
Creative Common

जानकारी के अनुसार बांदीपोरा में शाम को सुरक्षाबलों की तरफ से तीन आतंकियों को मार गिराया गया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इनमें से दो आतंकी राहुल भट्ट की हत्या में शामिल थे।

कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या के बाद सुरक्षाबलों की तरफ से उनकी पत्नी मीनाक्षी से दो दिन के अंदर आतंकियों को मारने का दावा किया था। लेकिन इसे 24 घंटे के भीतर ही पूरा करके दिखा दिया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बांदीपोरा में शाम को सुरक्षाबलों की तरफ से तीन आतंकियों को मार गिराया गया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इनमें से दो आतंकी राहुल भट्ट की हत्या में शामिल थे। 

भट्ट की पत्नी ने की थी सेना से अपील 

राहुल भट्ट की पत्नी मीनाक्षी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि सरकार सुरक्षा के बारे में नहीं सो रही है। मीनाक्षी ने सेना से अपील करते हुए कहा था कि वह हत्यारों को दो दिन में मार गिराए। मीनाक्षी ने आगे कहा, 'कश्मीरी पंडित सुरक्षित नहीं हैं। हमले में अपने पति को गंवाने वाली मीनाक्षी ने कहा, 'आर्मी ने कहा है कि आतंकियों को दो दिन में मारेंगे। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर के बांदीपोरा में मुठभेड़ के दौरान लश्कर आतंकी ढेर

 बांदीपोरा में सुरक्षाबलों ने चलाया तलाशी अभियान

पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि आतंवादियों की मौजूदगी की सूचना के बाद सुरक्षा बलों ने उत्तरी कश्मीर में बांदीपोरा के बरार में घेराबंदी कर तलाशी अभियान चलाया। उन्होंने कहा कि छुपे हुए आतंकियों द्वारा सुरक्षा बलों पर गोलीबारी के बाद तलाशी अभियान मुठभेड़ में बदल गया और जवानों ने जवाबी कार्रवाई की। इससे पहले दिन में कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) विजय कुमार ने कहा था कि बरार में घेरे गए आतंकी पाकिस्तानी हैं और लश्कर ए तैयबा से जुड़े हैं। इन्होंने हाल ही में कश्मीर में घुसपैठ की थी। ये आतंकी बुधवार को शालिंदर वन क्षेत्र में हुई मुठभेड़ में बच निकलने में कामयाब हो गए थे।

राहुल भट्ट अंतिम संस्कार किया गया

मध्य कश्मीर के बडगाम जिले में आतंकवादियों के हमले में मारे गए सरकारी कर्मचारी राहुल भट्ट का यहां शुक्रवार को अंतिम संस्कार किया गया। इस बीच, भट्ट की हत्या के खिलाफ यहां कश्मीरी पंडित समुदाय के सदस्यों ने विरोध प्रदर्शन किया।  भट्ट के पार्थिव शरीर को जम्मू के दुर्गा नगर इलाके में स्थित उनके आवास पर शुक्रवार की सुबह लाया गया। बडगाम की शेखपोरा प्रवासी कॉलोनी मेंभट्ट के साथ रह रहीं उनकी पत्नी और बेटी भी उनके शव के साथ कश्मीर से यहां पहुंची। उनके भाई सनी ने बुंतलाब श्मशान घाट पर राहुल भट्ट की चिता को मुखाग्नि दी और इस दौरान लोगों ने ‘‘राहुल भट्ट अमर रहे’’ के नारे लगाए। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।