एम्स के जठरांत्र विभाग के 40 चिकित्साकर्मी खुद पृथक-वास में गए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 24, 2020   15:43
एम्स के जठरांत्र विभाग के 40 चिकित्साकर्मी खुद पृथक-वास में गए

आधिकारिक सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। नर्स के संक्रमित होने का पता चलते ही उसके संपर्क में आए लोगों की पहचान की गई और इसके तहत 40 स्वास्थ्यकर्मियों के साथ ही वार्ड के कुछ मरीजों की भी संक्रमण के लिये जांच की गई।

नयी दिल्ली। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के जठरांत्र (गैस्ट्रो) विभाग के डॉक्टरों और नर्सों समेत करीब 40 चिकित्साकर्मियों को, उनके साथ काम कर रहे 30 वर्षीय एक पुरुष नर्स के कोविड-19 से संक्रमित पाए जाने के बाद, पृथक-वास में जाने की सलाह दी गई है। आधिकारिक सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। नर्स के संक्रमित होने का पता चलते ही उसके संपर्क में आए लोगों की पहचान की गई और इसके तहत 40 स्वास्थ्यकर्मियों के साथ ही वार्ड के कुछ मरीजों की भी संक्रमण के लिये जांच की गई। 

इसे भी पढ़ें: बिहार में कोरोना वायरस संक्रमित मामलों की संख्या बढकर 126 हुई, 13 नये मामले

एक डॉक्टर ने कहा, “अब तक 22 लोगों की जांच के नतीजे निगेटिव आए हैं जिनमें आईसीयू में भर्ती चार मरीज भी शामिल हैं। अन्य लोगों की जांच रिपोर्ट का अभी इंतजार है।” डॉक्टर के मुताबिक, नर्स को शनिवार को बुखार था और उसने उसी शाम एम्स कर्मचारियों के क्लीनिक में फोन पर डॉक्टर से संपर्क किया था। उसे जांच के लिये सोमवार को आने की सलाह दी गई। उन्होंने कहा, “सोमवार को उसका अवकाश था अत: वह जांच के लिये बुधवार को आया और बुधवार रात को ही उसके संक्रमित होने का पता चला। सभी को बृहस्पतिवार को इस बारे में पता चला।” 

इसे भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ लड़ाई में आगे आया CRPF, AIIMS को एक लाख सर्जिकल मास्क दान में दिए

पुरुष नर्स यहां छतरपुर इलाके का रहने वाला है और उसका एम्स में इलाज चल रहा है। इससे पहले दिल्ली के एलएनजेपी अस्पताल में मेस को अगले आदेश तक बंद करने का आदेश दिया गया था क्योंकि मेस से जुड़ी एक आहार विशेषज्ञ कोरोना वायरस से संक्रमित मिली थी। एनएलजेपी अस्पताल दिल्ली का कोविड-19 समर्पित अस्पताल है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...