चार करोड़ की संपत्ति अकेले हड़पने के लिए 20 साल में परिवार के 5 सदस्यों को उतारा मौत के घाट

चार करोड़ की संपत्ति अकेले हड़पने के लिए 20 साल में परिवार के 5 सदस्यों को उतारा मौत के घाट

गाजियाबाद जिले के मुरादनगर के गांव बसंतपुर सैंथली में रहने वाले त्यागी परिवार की संपत्ति में दो भाई के हिस्से में आयी। पिता की संपत्ति की कुल वेल्यू 4 करोड़ के आसपास की है।

कहते हैं कि पैसी किसी भी रिश्ते के बीच आ जाए तो रिश्ता खराब हो जाता है लेकिन जिस खबर को आज हम आपको बता रहे हैं उसे सुनकर आप सन्न रह जाएंगे। गाजियाबाद में एक शख्श ने अपने भाई की संपत्ति को हड़पने के लिए उसके पूरे परिवार को एक-एक करके हादसे का नाम देकर मार डाला। शख्स ने बहुत ही चालाकी के साथ थोड़ा-थोड़ा वक्त लेकर 20 साल में अपने ही भाई के परिवार को खत्म कर दिया। मृतकों में भाई सुधीर, बड़ी भतीजी पारुल, छोटी भतीजी पायल, भतीजा नीशू और रेशू त्यागी शामिल हैं। 

इसे भी पढ़ें: सूचना एवं प्रसारण राज्यमंत्री ने किया IIMC का दौरा, कहा- दीनदयाल उपाध्याय का सपना था आत्मनिर्भर भारत 

चार करोड़ की संपत्ति के लिए भाई के परिवार को उतारा मौत के घाट

गाजियाबाद जिले के मुरादनगर के गांव बसंतपुर सैंथली में रहने वाले त्यागी परिवार की संपत्ति में दो भाई के हिस्से में आयी। पिता की संपत्ति की कुल वेल्यू 4 करोड़ के आसपास की है। पैसे के लालच में एक भाई ने अपने ही सगे भाई के खिलाफ बड़ी साजिश रची और 20 साल में अपने भाई सहित उसके परिवार के 5 सदस्यों को मौत के घाट उतार दिया। इस खौफनाक अपराध का खुलासा पांचवे सदस्य की हत्या के दौरान हुआ। पुलिस के मुताबिक शख्स और उसके साथियों ने 24 साल के अपने भतीजे रेशु त्यागी का इस साल 8 अगस्त को कथित तौर पर अपहरण कर कार में गला घोंटकर हत्या कर दी थी और उसी दिन बुलंदशहर के पहासू इलाके में उसके शव को एक नहर में फेंक दिया था। अपने भतीजे के अपहरण और हत्या के आरोप में गुरुवार को गिरफ्तार किए गए 45 वर्षीय एक व्यक्ति ने पुलिस के सामने स्वीकार किया है कि उसने पिछले 20 वर्षों में पैतृक संपत्ति को पाने के लिए अपने तत्काल परिवार के चार अन्य सदस्यों को भी मार डाला। 

इसे भी पढ़ें: RCB और MI के मैच में भारतीय सितारों पर खुद को साबित करने की चुनौती 

सिलसिलेवार तरीके से करता रहा हत्याएं

पुलिस ने उस शख्स की पहचान मुरादनगर के बसंतपुर सैथली गांव के रहने वाले लीलू त्यागी के रूप में की है। पुलिस के मुताबिक, त्यागी और उसके साथियों ने उसके 24 वर्षीय भतीजे रेशु त्यागी का 8 अगस्त को कथित तौर पर अपहरण कर कार में गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी थी और उसी दिन बुलंदशहर के पहासू इलाके में उसके शव को एक नहर में फेंक दिया था। रेशु के परिवार ने 15 अगस्त को गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई थी। बाद में आश्वस्त हो गया कि उसका अपहरण कर लिया गया है और हत्या कर दी गई है, उन्होंने 22 सितंबर को अपहरण और हत्या की प्राथमिकी दर्ज की। पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) इराज राजा ने कहा त्यागी परिवार को बताता रहा कि रेशु परेशान था और हो सकता है कि वह खुद कहीं चला गया हो। उसने परिवार को पुलिस में शिकायत दर्ज कराने से रोकने की कोशिश की। जांच के दौरान, ग्रामीणों ने हमें बताया कि त्यागी परिवार के अन्य सदस्यों की रहस्यमय तरीके से मौत हो गई थी।

पांचवीं हत्या में जरा सी चूक से उजागर हुई करतूत

पुलिस ने कहा कि उन्होंने गुरुवार को त्यागी और दो अन्य को रेशु की हत्या के सिलसिले में गिरफ्तार किया, और पूछताछ के दौरान त्यागी ने स्वीकार किया कि उसने अपने बड़े भाई सुधीर त्यागी को भी 2001 में कॉन्ट्रैक्ट किलर का उपयोग करके मार डाला था। फिर उसने घर के बाकी लोगों को बताया कि सुधीर ने उन्हें छोड़ दिया है। त्यागी ने कहा कि सुधीर की हत्या के बाद, उन्होंने उसी साल अपनी भाभी (सुधीर की पत्नी) से शादी की। उसने हमें बताया कि फिर उसने सुधीर की दोनों बेटियों की हत्या कर दी। उसने आगे बताया कि उसने 2006 में 8 साल की सबसे छोटी बेटी को जहर देकर मार डाला, जबकि सबसे बड़ी 16 साल की बेटी को 2009 में जहर देकर मार डाला गया था, और उसके शरीर को एक नदी में फेंक दिया गया था। त्यागी ने कहा कि उसने 2013 में अपने दूसरे भाई बृजेश के आठ वर्षीय बेटे की भी गला घोंटकर हत्या कर दी और उसके शव को एक नदी में फेंक दिया। अगस्त में, उसने बृजेश के 24 वर्षीय बेटे रेशु की पांचवीं हत्या की।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।