अरब की महिलाओं पर 5 साल पुराने ट्वीट का स्क्रीनशॉट तेजस्वी के लिए बना मुसीबत, भारतीय राजदूत को देनी पड़ी सफ़ाई

अरब की महिलाओं पर 5 साल पुराने ट्वीट का स्क्रीनशॉट तेजस्वी के लिए बना मुसीबत, भारतीय राजदूत को देनी पड़ी सफ़ाई

29 वर्षीय तेजस्वी सूर्या ने तारिक फतेह के एक बायन के हवाले से लिखा, ''अरब की 95% महिलाओं ने पिछले कई सौ सालों में कभी ऑर्गाज्म (कामोत्तेजना की चरम अवस्था) नहीं पाया है। हर मां ने प्यार की बजाय सेक्स से बच्चे पैदा किए हैं।'' तेजस्वी सूर्या अब इस ट्वीट को डिलीट कर चुके हैं।

बेंगलुरू दक्षिण से भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या के पांच साल पुराना ट्वीट के स्क्रीनशॉट के जरिए उन पर निशाना साधा जा रहा है। तेजस्वी ने तारिक फतेह के बयान के हवाले से साल 2015 में एक ट्वीट किया था, जब वो राजनीति में आए भी नहीं थे। इससे पहले ऐसा ही ट्वीट तब भी वायरल हुआ था, जब 2019 के चुनाव में बीजेपी ने सूर्या को अपना उम्मीदवार बनाया था। हालांकि इस ट्वीट को तेजस्वी सूर्या पहले ही अपने एकाउंट से डिलीट कर चुके हैं। लेकिन इस ट्वीट का स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर एक बार फिर से वायरल हो गया और जिसे लेकर अरब देशों लोग तेजस्वी सूर्या के बयान पर सवाल भी उठा रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना ने बढ़ाई पाक PM की टेंशन, रमजान में हालात काबू करने का दिया आदेश

दरअसल, पूरा मामला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कोरोना वायरस को लेकर किए एक ट्वीट के बाद चर्चा में आया। बता दें कि पीएम मोदी ने एक ट्वीट किया था जिसमें उन्होंने कोरोना वायरस के किसी भी जाति, धर्म, रंग, भाषा और सीमा देख कर उसे प्रभावित नहीं करता जैसी बात लिखी थी। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस लॉकडाउन की वजह से भारत में फंसे 41 पाकिस्तानी वतन लौटे

कुवैत की वकील मजबील-अल-शरीका ने ट्विटर को टैग करते हुए यह स्क्रीनशॉट शेयर किया और लिखा कि यह भारत के राजनेता तेजस्वी सूर्या हैं जिन्होंने अरब देश की महिलाओं को ऐसा कहा है। मैं आश्चर्यचकित हूं कि इनका अकाउंट अब भी ऐक्टिव कैसे है। क्या यह ट्विटर की पॉलिसी के खिलाफ नहीं है। कार्रवाई होनी चाहिए क्योंकि इससे अरब के लोगों की भावनाएं आहत हुई हैं।

क्या लिखा है इस ट्वीट में? 

29 वर्षीय तेजस्वी सूर्या ने तारिक फतेह के एक बायन के हवाले से लिखा, ''अरब की 95% महिलाओं ने पिछले कई सौ सालों में कभी ऑर्गाज्म (कामोत्तेजना की चरम अवस्था) नहीं पाया है। हर मां ने प्यार की बजाय सेक्स से बच्चे पैदा किए हैं।'' तेजस्वी सूर्या अब इस ट्वीट को डिलीट कर चुके हैं।

इसे भी पढ़ें: कोरोना पर लगाम लगाने के लिए अधिक-से-अधिक जांच करने की जरूरत: विशेषज्ञ

शाही परिवार की सदस्य नाराज़

सूर्या का विवाद संयुक्त अरब अमीरात के शाही परिवार की सदस्य राजकुमारी हेंड अल कासिमी के ट्वीट के बाद सामने आया, जिन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यूएई में काम करने वाले और सोशल मीडिया पर इस्लामोफोबिक कंटेंट पोस्ट करने वाले भारतीयों को निर्वासित कर दिया जाएगा।

तेजस्वी पहले भी दे चुके हैं सफाई

तेजस्वी के जिस ट्वीट को लेकर उनपर निशाना साधा जा रहा है उसपर वो पहले भी सफाई दे चुके हैं। उन्होंने कहा था कि उनकी टिप्पणी को गलत रूप में प्रस्तुत किया गया। यह ट्वीट उन्होंने अपने छात्र जीवन में किया था और उस वक्त वह सार्वजनिक जीवन का हिस्सा नहीं थे।

इसे भी पढ़ें: IMF ने दी पाकिस्तान को 1.4 अरब डॉलर की सहायता को मंजूरी

भारत की सफ़ाई

मामले को शांत करने के लिए, यूएई में भारतीय राजदूत, पवन कपूर ने ट्वीट कर कहा कि 'भारत और संयुक्त अरब अमीरात किसी भी आधार पर भेदभाव के ख़िलाफ़ हैं। किसी भी तरह का भेदभाव हमारे नैतिक तानाबाना और नियम क़ानून के ख़िलाफ़ है। अमीरात में रहने वाले सभी भारतीयों को यह हमेशा याद रखना चाहिए।' 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।