एक मई से 3736 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से 50 लाख प्रवासियों ने की यात्रा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 28, 2020   21:36
एक मई से 3736 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से 50 लाख प्रवासियों ने की यात्रा

आंकड़ों के मुताबिक, रेलवे ने एक मई से इन ट्रेनों में यात्रा करने वाले प्रवासी श्रमिकों में खाने के 85 लाख निशुल्क पैकेट और निशुल्क करीब 1.25 करोड़ पानी की बोतलें मुहैया कराया है।

नयी दिल्ली। रेलवे द्वारा एक मई से चलायी गयी 3,736 ‘श्रमिक स्पेशल’ ट्रेनों से 50 लाख से ज्यादा प्रवासी मजदूरों ने यात्रा की है। आधिकारिक आंकड़ों में इस बारे में बताया गया है। इनमें से 3157 ट्रेनें अपने गंतव्य तक पहुंच चुकी है। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक सबसे ज्यादा गुजरात (979), महाराष्ट्र (695), पंजाब (397), उत्तरप्रदेश (263) और बिहार (263) से ट्रेनें चली। ये ‘श्रमिक स्पेशल’ ट्रेनें देश के विभिन्न हिस्सों में प्रवासियों को लेकर पहुंची। सबसे ज्यादा उत्तरप्रदेश (1520), बिहार (1296), झारखंड (167), मध्यप्रदेश (121), ओडिशा (139) में ट्रेनें पहुंची।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘मुझे यह बताते हुए बहुत प्रसन्नता है कि कोरोना वायरस आपदा में रेलवे की श्रमिक स्पेशल ट्रेनों ने अभी तक 50 लाख से अधिक कामगारों को सुविधाजनक व सुरक्षित तरीके से उनके गृह राज्य पहुंचाया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इसके साथ ही रेलवे अब तक 84 लाख से अधिक निशुल्क भोजन व 1.24 करोड़ पानी की बोतल भी वितरित कर चुकी है।’’ आंकड़ों के मुताबिक, रेलवे ने एक मई से इन ट्रेनों में यात्रा करने वाले प्रवासी श्रमिकों में खाने के 85 लाख निशुल्क पैकेट और निशुल्क करीब 1.25 करोड़ पानी की बोतलें मुहैया कराया है। 

इसे भी पढ़ें: राज्यों को SC का निर्देश, प्रवासी कामगारों से घर जाने के लिये नहीं लिया जाये भाड़ा

आंकड़ों के मुताबिक, ‘‘इसमें रेलवे के उपक्रम आईआरसीटीसी द्वारा तैयार भोजन और मंडल रेलवे द्वारा बांटे गए भोजन शामिल हैं। सभी श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में यात्रा करने वालों को खाना और पानी की बोतलें मुहैया करायी गयी।’’ रेलवे ने कहा है, ‘‘आईआरसीटीसी पूड़ी-सब्जी-अचार, रोटी-सब्जी-अचार, केला, बिस्कुट, केक, नमकीन, वेज पुलाव, पाव भाजी, लेमन राइस पिकल, उपमा, पोहा आदि उपलब्ध करा रही है। भोजन के साथ रेल नीर के बोतल दिए जा रहे हैं।’’ रेलवे प्रत्येक ट्रेन के संचालन का 85 प्रतिशत खर्च खुद वहन कर रहा है जबकि बाकी खर्च किराये के रूप में राज्य वहन कर रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।