केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी बोले, स्फूर्ति योजना के तहत 5,000 संकुल हो सकते हैं शुरू

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 23, 2021   10:29
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी बोले, स्फूर्ति योजना के तहत 5,000 संकुल हो सकते हैं शुरू

मंत्रालय ने परंपरागत उद्योगों के विकास और दस्तकारों की सहायता के मकसद से स्फूर्ति (स्कीम ऑफ फंड फॉर रिजनरेशन ऑफ ट्रेडिशनल इंडस्ट्रीज) योजना शुरू की है।

नयी दिल्ली। सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यम (एमएसएमई) मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को कहा कि स्फूर्ति योजना के तहत मंजूरी प्रक्रियाओं में तेजी लाकर तथा लाल फीताशाही को समाप्त कर दस्तकारों के लिये 5,000 संकुल (क्लस्टर) शुरू किये जा सकते हैं। मंत्रालय ने परंपरागत उद्योगों के विकास और दस्तकारों की सहायता के मकसद से स्फूर्ति (स्कीम ऑफ फंड फॉर रिजनरेशन ऑफ ट्रेडिशनल इंडस्ट्रीज) योजना शुरू की है। 

इसे भी पढ़ें: बाबा रामदेव ने लॉन्च की कोरोना वायरस की दवा, डॉ. हर्षवर्धन और नितिन गडकरी रहे मौजूद 

इसके तहत परंपरागत उद्योगों और दस्तकारोंको संकुलों के जरिये संगठित किया जाएगा, ताकि उन्हें प्रतिस्पर्धी बनाया जा सके और उनकी आय बढ़ायी जा सके। योजना के तहत, साझा सुविधा केंद्रों के जरिये ढांचागत सुविधाएं तैयार करना, नई मशीनरी की खरीद, कच्चे माल के लिये बैंक और पैकेजिंग में सुधार के लिये समर्थन दिया जाता है। मंत्री ने कहा कि ऐसे संकुल बनाने के लिये कदम उठाने में तेजी लाने की जरूरत है। 

इसे भी पढ़ें: साल 2025 तक सड़क दुर्घटनाओं में मरने वालों की संख्या में 50 प्रतिशत कमी लाने की योजना है: नितिन गडकरी 

उन्होंने कहा, ‘‘घोषित 371 संकुलों में से केवल 82 ही वास्तव में काम कर रहे हैं और अगर लालफीताशाही को समाप्त कर दिया जाए, तो 5,000 संकुल गठित करने का लक्ष्य आसानी से हासिल किया जा सकता है।’’ गडकरी ने मंत्रालय के अधिकारियों से इससे जुड़े मसलों को देखने और समस्याओं के समाधान करने को कहा ताकि वे संकुल परिचालन में आ सके जो अभी काम नहीं कर रहे। मंत्री ने 18 राज्यों में फैले दस्तकार आधारित 50 स्फूर्ति संकुलों के उद्घाटान के बाद यह बात कही। मंत्रालय ने इन 50 संकुलों के विकास के लिये 85 करोड़ रुपये उपलब्ध कराये हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।