कर्नाटक में कोरोना के 5,483 नये मामले आये, 84 और मरीजों की गयी जान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 31, 2020   21:33
कर्नाटक में कोरोना के 5,483 नये मामले आये, 84 और मरीजों की गयी जान

राज्य में इस बीमारी से मृत्यु दर 1.86 फीसद है जबकि स्वस्थ हेाने की दर 40.14 फीसद है। महामारी के मामले में बेंगलुरु शहर 55,544 संक्रमितों के साथ शीर्ष पर है जबकि बेल्लारी में 6,403 और दक्षिण कन्नड़ में 5,708 मामले हैं।

बेंगलुरू। कर्नाटक में शुक्रवार को लगातार आठवें दिन कोरोना वायरस संक्रमण के 5000 से अधिक नये मामले सामने आये तथा राज्य में इस महामारी के मामले 5,483 नये मरीजों के साथ ही संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,24,115 हो गई। 24 घंटे में 84 और मरीजों की जान चले जाने के बाद राज्य में मृतकों की कुल संख्या 2314 हो गयी। स्वास्थ्य विभाग ने एक बुलेटिन में बताया कि नए मामलों के साथ ही प्रदेश में आज कोविड-19 संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 1,24,115 हो गयी।

स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि शुक्रवार को 3,130 मरीजों को उपचार के बाद स्वस्थ होने पर अस्पताल से छुट्टी भी दी गयी। बुलेटिन के अनुसार, नये मामलों में से 2,220 नये मरीज बेंगलुरू शहर से हैं। विभाग के मुताबिक 31 जुलाई की शाम तक राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मरीजों की तदाद 1,24,115 हो गयी। इसमें संक्रमण से अब तक हुयी 2,314मौत भी शामिल हैं। कुल मरीजों में अबतक 49,788 उपचार के बाद स्वस्थ्य हो चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के 838 नए मामले, संक्रमितों की संख्या 31,000 के पार

इसमें कहा गया है कि राज्य में अभी कोविड-19 के 72,005 मरीजों का उपचार चल रहा है जिनमें से 609 आईसीयू में हैं जबकि 71,396मरीज अस्पतालों में पृथक वार्ड में हैं। राज्य में इस बीमारी से मृत्यु दर 1.86 फीसद है जबकि स्वस्थ हेाने की दर 40.14 फीसद है। महामारी के मामले में बेंगलुरु शहर 55,544 संक्रमितों के साथ शीर्ष पर है जबकि बेल्लारी में 6,403 और दक्षिण कन्नड़ में 5,708 मामले हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।