अमरोहा में रहस्यमयी परिस्थितियों में 55 गायों की मृत्यु, जांच जारी

Cow
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
उत्तर प्रदेश में अमरोहा जिले के हसनपुर क्षेत्र में एक गो आश्रय स्थल पर बृहस्पतिवार को रहस्यमयी परिस्थितियों में कम से कम 55 गायों की मृत्यु हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले की जांच का आदेश दिया है और पशुधन मंत्री धरम पाल सिंह को घटनास्थल जाने का निर्देश दिया है। अमरोहा के पुलिस अधीक्षक आदित्य लांगेह ने बाद में पीटीआई-से पुष्टि की कि करीब 55 गायों की मृत्यु हो गई है।

अमरोहा, 5 अगस्त  उत्तर प्रदेश में अमरोहा जिले के हसनपुर क्षेत्र में एक गो आश्रय स्थल पर बृहस्पतिवार को रहस्यमयी परिस्थितियों में कम से कम 55 गायों की मृत्यु हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले की जांच का आदेश दिया है और पशुधन मंत्री धरम पाल सिंह को घटनास्थल जाने का निर्देश दिया है। अमरोहा के जिलाधिकारी बीके त्रिपाठी ने संवाददाताओं को बताया, “ एक गो आश्रय स्थल पर चारा खाने के बाद गायें बीमार पड़ गईं।पशुपालन विभाग के अधिकारियों और पशु चिकित्सकों को गायों का इलाज करने के लिए रवाना किया गया है।”

अमरोहा के पुलिस अधीक्षक आदित्य लांगेह ने बाद में पीटीआई-से पुष्टि की कि करीब 55 गायों की मृत्यु हो गई है। जिलाधिकारी के मुताबिक, गो आश्रय स्थल के प्रबंधन ने ताहिर नामक एक व्यक्ति से चारा खरीदा था जिसे पशुओं ने खाया और वे बीमार पड़ने लगीं, जिसके बाद ताहिर के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और उसे गिरफ्तार करने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि गो आश्रय स्थल के प्रभारी ग्राम विकास अधिकारी को निलंबित कर दिया गया है। स्थानीय सूत्रों के मुताबिक, संथालपुर गांव में स्थित गो आश्रय स्थल पर 180 से अधिक गायें पंजीकृत हैं।

उन्होंने बताया कि कर्मचारियों ने शाम में इन गायों को चारा दिया जिसे खाने के बाद गायें बीमार पड़ने लगीं। मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) की ओर से ट्विटर पर कहा गया है, “ मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने अमरोहा में हुई गौवंशों की मृत्यु की खबरों का संज्ञान लेते हुए पशुधन मंत्री को तत्काल मौके पर पहुंचने के निर्देश दिए हैं।” ट्वीट में कहा गया है, “ मुख्यमंत्री जी ने अपर मुख्य सचिव, डायरेक्टर पशुधन व मुरादाबाद कमिश्नर को पूरे मामले की जांच रिपोर्ट सौंपने हेतु निर्देशित किया है।” सीएमओ के मुताबिक, “मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इस कृत्य में लिप्त दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़