उत्तर प्रदेश में कोरोना से 63 और मरीजों की मौत, मृतकों की संख्या 3486 हुई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 31, 2020   18:36
उत्तर प्रदेश में कोरोना से 63 और मरीजों की मौत, मृतकों की संख्या 3486 हुई

उत्तर प्रदेश में रविवार को 136585 नमूनों की जांच की गई। राज्य में अब तक 5626897 नमूनों की जांच की जा चुकी है जो किसी भी प्रदेश में सर्वाधिक है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड-19 के 63 और मरीजों की मौत हो गई वहीं 5061 नए लोगों में इस संक्रमण की पुष्टि हुई। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने सोमवार को बताया कि राज्य में पिछले 24 घंटों के दौरान 63 और लोगों की मौत के साथ राज्य में इस वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 3486 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी रिपोर्ट के मुताबिक सबसे ज्यादा 15 मौतें लखनऊ में हुई है। इसके अलावा देवरिया में सात, कानपुर नगर में पांच, प्रयागराज और वाराणसी में तीन-तीन, बरेली, बाराबंकी, आजमगढ़, मुजफ्फरनगर, रायबरेली और ललितपुर में दो-दो तथा चित्रकूट, श्रावस्ती, कौशांबी, बलरामपुर, फर्रुखाबाद, फिरोजाबाद, मऊ, बदायूं, संभल, बिजनौर, सिद्धार्थ नगर, लखीमपुर खीरी, कुशीनगर, शाहजहांपुर, बलिया, मेरठ, मुरादाबाद तथा गोरखपुर में कोविड-19 संक्रमित एक-एक व्यक्ति की मृत्यु हुई है। 

इसे भी पढ़ें: UP सरकार के एक और मंत्री मोहसिन रजा कोरोना से संक्रमित, ट्वीट कर दी जानकारी

उन्होंने बताया कि इस अवधि में 5061 नए लोगों में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि हुई है। लखनऊ में सबसे ज्यादा 791 नए रोगियों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। इसके अलावा गोरखपुर में 374, प्रयागराज में 288, कानपुर नगर में 251 और वाराणसी में 210 नए मरीजों का पता लगा है। अपर मुख्य सचिव ने बताया कि राज्य में इस वक्त 54758 मरीजों का इलाज चल रहा है। वहीं, 172140 लोग अब तक कोविड-19 बीमारी से पूरी तरह ठीक हो चुके हैं। प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में रविवार को 136585 नमूनों की जांच की गई। राज्य में अब तक 5626897 नमूनों की जांच की जा चुकी है जो किसी भी प्रदेश में सर्वाधिक है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।