उत्तराखंड में 73 नये कोविड-19 मरीज, सभी 13 जिलों को ऑरेंज जोन के रूप में नामित किया गया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 25, 2020   08:36
उत्तराखंड में 73 नये कोविड-19 मरीज, सभी 13 जिलों को ऑरेंज जोन के रूप में नामित किया गया

स्वास्थ्य विभाग द्वारा यहां जारी स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, ताजा मामलों में सर्वाधिक 32 मरीज नैनीताल जिले में हैं। नये मामलों को मिलाकर नैनीताल में अकेले ही अब तक 117 मरीज हो गये हैं।

देहरादून। उत्तराखंड में पिछले कुछ दिन से लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस के मामलों में रविवार को 73 नये मरीज जुड़ गये जिससे प्रदेश में महामारी से पीड़ितों का आंकड़ा बढ़कर 317 हो गया है और पूरा राज्य ऑरेंज जोन में आ गया। कोरोना वायरस संक्रमित मिले ताजा मामलों में ज्यादातर मरीज बाहर से यात्रा करके प्रदेश में आए हैं। प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग द्वारा यहां जारी स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, ताजा मामलों में सर्वाधिक 32 मरीज नैनीताल जिले में हैं। नये मामलों को मिलाकर नैनीताल में अकेले ही अब तक 117 मरीज हो गये हैं।

इसे भी पढ़ें: कालापानी, लिपुलेख को नेपाल द्वारा अपने नक्शे में दिखाए जाने के बावजूद सरकारें सोई पड़ी: कांग्रेस

इसके अलावा, देहरादून जिले में 11, चमोली जिले में 10, उधमसिंह नगर में आठ, अल्मोडा में पांच, टिहरी में तीन, बागेश्वर में दो मरीज हैं जबकि चंपावत और पौडी जिले में एक—एक कोरोना वायरस संक्रमित रोगी मिले हैं। इन 73 मामलों में से एक मामले की पुष्टि एक निजी प्रयोगशाला से हुई है और बुलेटिन में इस मरीज के बारे में विवरण नहीं दिया गया है। इसके अलावा संक्रमित मिले तीन मरीज राज्य से बाहर जा चुके हैं। प्रदेश में अब तक तीन संक्रमित मरीजों की मृत्यु हो चुकी है लेकिन स्वास्थ्य विभाग का मानना है कि इनमें से कोई भी मृत्यु कोविड-19 से नहीं हुई है और वे मरीज पहले से ही अन्य बीमारियों से ग्रस्त थे। कोरोना वायरस संक्रमण ने प्रदेश के सभी 13 जिलों को अपनी चपेट में ले लिया है और पूरा राज्य ऑरेंज जोन में तब्दील हो गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।