भोपाल में शुक्रवार को 74 कोरोना संक्रमण हुए स्वस्थ, अभी तक 983 व्यक्ति पूरी तरह स्वस्थ होकर घर पहुँचे

भोपाल में शुक्रवार को 74 कोरोना संक्रमण हुए  स्वस्थ, अभी तक 983 व्यक्ति पूरी तरह स्वस्थ होकर घर पहुँचे

भोपाल का रिकवरी रेट 69 प्रतिशत से अधिक हो गया। गांधी मेडिकल कॉलेज और हमीदिया हॉस्पिटल की डीन श्रीमती अरूणा कुमार ने बताया कि आज चिकित्सालय से 28 कोरोना संक्रमित व्यक्ति स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए। इनमे से 6 व्यक्ति बेहद गंभीर अवस्था में आईसीयू में थे।

भोपाल। कोरोना मुक्त भोपाल का संकल्प और कोरोना पर जीत के शासन प्रशासन के अथक और निरंतर प्रयासों के सुखद परिणाम अब मिलने लगे है। आज इन प्रयासों के फलस्वरूप भोपाल में कुल 74 व्यक्ति कोरोना संक्रमण से ठीक होकर अपने घर रवाना हुए। सुबह चिरायु अस्पताल से 20 व्यक्ति और आज शाम को हमीदिया अस्पताल से 28 और खुशीलाल होम्योपैथी चिकित्सालय से 26 व्यक्ति डिस्चार्ज हुए। इन उपलब्धियों के साथ भोपाल का रिकवरी रेट 69 प्रतिशत से अधिक हो गया।

 

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश इलाज की सर्वोत्‍तम व्यवस्था सुनिश्चित कर मृत्यु दर कम करें

गांधी मेडिकल कॉलेज और हमीदिया हॉस्पिटल की डीन श्रीमती अरूणा कुमार ने बताया कि आज चिकित्सालय से 28 कोरोना संक्रमित व्यक्ति स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए। इनमे से 6 व्यक्ति बेहद गंभीर अवस्था में आईसीयू में थे। अपने दृढ़ निश्चय और आत्मबल से इस संक्रमण से विजय प्राप्त करने वाले कोरोना सेवियर्स का हमीदिया अस्पताल ने तालियों से स्वागत किया और उनके बधाइयां दी। इस उत्सव और खुशी के समय में पैरामेडिकल स्टाफ चिकित्सक सुपरिटेंडेंट अधिष्ठाता ने इन सभी व्यक्तियों को मास्क और सैनिटाइजर देकर उन्हें उनके घर रवाना किया। शासकीय होम्योपैथिक चिकित्सा महाविद्यालय भोपाल से आज 26 व्यक्तियों की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आने पर उन्हें सकुशल अपने घर रवाना किया गया। इन्हे पूर्व में पॉजिटिव आने पर  लक्षणों के आधार पर स्टैंडर्ड प्रोटोकॉल के तहत इन्हे आइसोलेशन में रखा गया था। 

इसे भी पढ़ें: भोपाल में खेल गतिविधियां प्रारंभ करने के लिए खेल विभाग ने तैयार की गाइड लाइन

जिला प्रशासन की उच्च स्तरीय स्वास्थ्य व्यवस्था और बेहतर प्रबंध का परिणाम है कि भोपाल का रिकवरी रेट 69 प्रतिशत से अधिक हो गया है। अभी तक कुल 1423 कोरोना संक्रमित व्यक्तियों में से 983 व्यक्ति संक्रमण से पूरी तरह ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। शासन-प्रशासन की इस मुहीम में जनता ने भी बढ़ चढ़कर भागीदारी और सहयोग दिया है। लॉकडाउन के नियमो के पालन करने के साथ साथ फीवर क्लिनिंक में अपनी जांच कराने आने वाले व्यक्तियों की संख्या बढ़ी है। अधिक जांच और त्वरित इलाज ही कोरोना मुक्त भोपाल बनाने का मूल मंत्र है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।