संविधान सभा की पहली बैठक के 75 साल हुए पूरे, PM मोदी ने युवाओं से की यह अपील

संविधान सभा की पहली बैठक के 75 साल हुए पूरे, PM मोदी ने युवाओं से की यह अपील

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज जब हम अपनी संविधान सभा की ऐतिहासिक बैठक के 75 वर्ष पूरे कर रहे हैं तो मैं अपने युवा मित्रों से आग्रह करना चाहता हूं कि वे इस गौरवशाली सभा की कार्यवाही के बारे में और इसमें शामिल होने वाले प्रतिष्ठित दिग्गजों के बारे में अधिक जानें।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को संविधान सभा की पहली बैठक का उल्लेख करते हुए कहा कि आज से 75 साल पहले हमारी संविधान सभा की पहली बैठक हुई थी। भारत के अलग-अलग हिस्सों, अलग-अलग पृष्ठभूमि और यहां तक ​​कि अलग-अलग विचारधाराओं के प्रतिष्ठित लोग एक उद्देश्य के साथ एक साथ आए। जिनका मकसद भारत के लोगों को एक योग्य संविधान देना था। इन महानुभावों को नमन करता हूं। 

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महापरिनिर्वाण दिवस पर अंबेडकर को दी श्रद्धांजलि 

प्रधानमंत्री मोदी ने संविधान सभा की फोटो साझा करते हुए यह ट्वीट किया। उन्होंने कहा कि संविधान सभा की पहली बैठक की अध्यक्षता डॉ. सच्चिदानंद सिन्हा ने की, जो सभा के सबसे बड़े सदस्य थे। सभापति ने आचार्य कृपलानी द्वारा उनका परिचय और संचालन किया। 

इसे भी पढ़ें: ब्रिटिश साम्राज्य के अधीन रहे देश में उच्चायुक्त और अन्य देशों में राजदूत क्यों नियुक्त होते हैं? क्राउन के प्रति निष्ठा है इसकी वजह? 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज जब हम अपनी संविधान सभा की ऐतिहासिक बैठक के 75 वर्ष पूरे कर रहे हैं तो मैं अपने युवा मित्रों से आग्रह करना चाहता हूं कि वे इस गौरवशाली सभा की कार्यवाही के बारे में और इसमें शामिल होने वाले प्रतिष्ठित दिग्गजों के बारे में अधिक जानें। ऐसा करना बौद्धिक रूप से समृद्ध अनुभव होगा। आपको बता दें कि 9 दिसंबर, 1946 को संविधान सभा की पहली बैठक हुई थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...