तमिलनाडु के मदुरै में कोरोना पाबंदियों के बीच जल्लीकट्टू का हुआ आयोजन, एक की हुई मौत, 80 लोग जख्मी

तमिलनाडु के मदुरै में कोरोना पाबंदियों के बीच जल्लीकट्टू का हुआ आयोजन, एक की हुई मौत, 80 लोग जख्मी

मदुरै के अवनियापुरम इलाके में आयोजित हुई जल्लीकट्टू प्रतियोगिता का वीडियो साझा किया। इस वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे बैलों के साथ खतरनाक खेल का मजा ले रहे हैं। इस दौरान कई लोग बुरी तरह से जख्मी भी हुए। एक स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि अवनियापुरम में आयोजित हुई प्रतियोगिता में एक व्यक्ति की मौत हो गई।

चेन्नई। तमिलनाडु में पोंगल उत्सव के दौरान बैलों पर काबू पाने वाले लोकप्रिय पारंपरिक खेल जल्लीकट्टू का कोरोना पाबंदियों के साथ आयोजन हुआ। आपको बता दें कि एमके स्टालिन सरकार ने पोंगल उत्सव के दौरान कोरोना प्रोटोकॉल के साथ जल्लीकट्टू को आयोजित करने की अनुमति दी थी। जिसके मुताबिक बैलों के मालिक और उनके प्रशिक्षकों को खेल के लिए पंजीकरण कराना होगा। इसके अलावा वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट के साथ अधिकतम 48 घंटे पहले कराए गए कोरोना टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट का होना अनिवार्य है। 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी ने तमिलनाडु के 11 नए मेडिकल कॉलेज का किया उद्घाटन, बोले- हम मातृभाषा में शिक्षा को दे रहे बढ़ावा

एक व्यक्ति की हुई मौत

समाचार एजेंसी एएनआई ने मदुरै के अवनियापुरम इलाके में आयोजित हुई जल्लीकट्टू प्रतियोगिता का वीडियो साझा किया। इस वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे बैलों के साथ खतरनाक खेल का मजा ले रहे हैं। इस दौरान कई लोग बुरी तरह से जख्मी भी हो गए। एक स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि अवनियापुरम में आयोजित हुई प्रतियोगिता में एक व्यक्ति की मौत हो गई और कम से कम 80 लोग जख्मी हुए हैं।

150 दर्शकों की ही अनुमति

स्टालिन सरकार के आदेशों के मुताबिक, जल्लीकट्टू प्रतियोगिता को देखने के लिए खुले स्थान पर अधिकतम 150 या फिर बैठने की क्षमता के हिसाब से 50 फीसदी दर्शकों की ही अनुमति दी गई है। दर्शकों को भी कोरोना नियमों का पालन करना पड़ेगा। आपको बता दें कि पूरी तरह से वैक्सीनेटेड लोग ही प्रतियोगिता को देख सकेंगे। इसके अलावा उन्हें भी आरटी-पीसीआर टेस्ट कराना पड़ाना। 

इसे भी पढ़ें: स्टालिन ने अधिकारियों से कहा, 2030 तक के विकास का खाका तैयार करें, बड़ा सोचें और लक्ष्य हासिल करें

कोरोना नियमों की उड़ी धज्जियां

सरकार ने कोरोना नियमों के साथ प्रतियोगिता को आयोजित करने की अनुमति दी थी। लेकिन सामने आए वीडियो में देखा जा सकता है कि शारीरिक दूरी जैसे नियमों की धज्जियां उड़ी हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।