मध्य प्रदेश में क्लर्क के घर छापेमारी में मिला 85 लाख नगद, कभी 4000 रुपये थी सैलरी

cash
ANI
अंकित सिंह । Aug 03, 2022 8:28PM
भोपाल के संत हिरदाराम नगर के मिनी मार्केट रोड स्थित इस क्लर्क के आवास पर अधिकारियों ने आज दबिश दी थी। क्लर्क का नाम हीरो केसवानी है। ईओडब्ल्यू की टीम ने घर में पहुंचते ही लोगों को बाहर जाने पर रोक लगा दी थी। दस्तावेजों की छानबीन शुरू की गई। घर से 85 लाख नकद भी बरामद किए गए हैं।

इन दिनों प्रवर्तन निदेशालय की कार्रवाई के बारे में आप खूब सुन रहे होंगे। इन सब के बीच आज मध्य प्रदेश में आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ की टीमों ने भी अलग-अलग जगह पर छापेमारी की। इसी कड़ी में चिकित्सा शिक्षा विभाग में कार्यालय क्लर्क के यहां भी छापेमारी की गई। दरअसल, भोपाल के संत हिरदाराम नगर के मिनी मार्केट रोड स्थित इस क्लर्क के आवास पर अधिकारियों ने आज दबिश दी थी। क्लर्क का नाम हीरो केसवानी है। ईओडब्ल्यू की टीम ने घर में पहुंचते ही लोगों को बाहर जाने पर रोक लगा दी थी। दस्तावेजों की छानबीन शुरू की गई। घर से 85 लाख नकद भी बरामद किए गए हैं।

इसे भी पढ़ें: ताइवान पर अमेरिका और चीन में तनाव, One China Policy को लेकर क्या है भारत की रणनीति

हालांकि, इस दौरान एक नाटकीय घटनाक्रम भी हुआ। छापेमारी के दौरान क्लर्क के फिनायल पी लिया जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। फिलहाल उसका इलाज चल रहा है। घर के बाहर भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात है। विभाग को हीरो केसवानी को लेकर लंबे समय से शिकायतें मिल रही थी। यही कारण है कि आज उसके घर छापेमारी की गई है। छापेमारी करने वाली टीम कई दस्तावेजों का अध्ययन कर रही है। आपको बता दें कि हीरो केसवानी ने नौकरी की शुरुआत महज 4000 रुपये से की थी। वर्तमान में उसकी सैलरी 50000 रुपये महीना है। लेकिन उसके पास इतनी दौलत कहां से आई इसको लेकर सभी हैरान हैं। 

इसे भी पढ़ें: नीतू और हुसामुद्दीन का शानदार प्रदर्शन, भारत के मुक्केबाजी में दो पदक किये पक्के

छापे में चल व अचल संपत्ति के दस्तावेज बरामद किए गए हैं। छापे की कार्रवाई फिलहाल जारी है इसलिए कुल कितनी संपत्ति का खुलासा हुआ है। इसका मूल्यांकन कार्रवाई समाप्त होने के बाद किया जा सकेगा। सुबह केसवानी ने छापे के कार्रवाई का विरोध करते हुए दल के सदस्यों के साथ हाथापाई की और बाद में घर में रखा फिनाइल जैसा द्रव पी लिया, जिसके बाद उल्टी होने पर उसे शासकीय हमीदिया अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया गया है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़