महाराष्ट्र से 93 ट्रेनों के जरिए रवाना हुए 1 लाख 35 हजार प्रवासी मजदूर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 27, 2020   13:03
महाराष्ट्र से 93 ट्रेनों के जरिए रवाना हुए 1 लाख 35 हजार प्रवासी मजदूर

अधिकारी ने बताया, ‘‘मंगलवार शाम से अब तक 93 ट्रेनें उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, तमिलनाडु, केरल, राजस्थान और दूसरे राज्यों के लिए रवाना हुईं। इन ट्रेनों से 1.35 लाख प्रवासी श्रमिक और फंसे हुए लोगों ने प्रस्थान किया।’’

मुंबई। महाराष्ट्र से 93 श्रमिक विशेष ट्रेनों से 1.35 लाख प्रवासी मजदूर अपने-अपने गंतव्य के लिए रवाना हो गये हैं। एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी। सरकारी रेलवे पुलिस (जीआरपी) के एक अधिकारी ने कहा कि मंगलवार शाम से प्रवासी मजदूरों और यहां फंसे अन्य लोगों को उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल और अन्य राज्यों को ले जाने के लिए महाराष्ट्र के अनेक स्टेशनों से ट्रेनों का इंतजाम किया गया था। उन्होंने कहा कि इनमें 1,547 लोग बुधवार सुबह 9.10 बजे लोकमान्य तिलक टर्मिनस (एलटीटी) से राजस्थान के अजमेर के लिए रवाना हुए। अधिकारी ने बताया, ‘‘मंगलवार शाम से अब तक 93 ट्रेनें उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, तमिलनाडु, केरल, राजस्थान और दूसरे राज्यों के लिए रवाना हुईं। इन ट्रेनों से 1.35 लाख प्रवासी श्रमिक और फंसे हुए लोगों ने प्रस्थान किया।’’ 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में बंद के दौरान गरीब लोगों को मुफ्त में सब्जी दे रहा है सब्जी विक्रेता 

बुधवार सुबह पड़ोसी पालघर जिले के सन सिटी मैदान पर और मुंबई के एलएलटी स्टेशन के बाहर प्रवासी श्रमिकों और अन्य फंसे हुए लोगों की भारी भीड़ जमा थी। इससे पहले आधी रात में सैकड़ों लोग दक्षिण मुंबई के नागपाड़ा जंक्शन में एकत्रित हो गए जो अपने गंतव्य स्थानों के लिए ट्रेनों का बंदोबस्त करने की मांग कर रहे थे। एक अन्य अधिकारी ने कहा कि बाद में पुलिस और स्थानीय नेताओं की अपील पर लोग तितर-बितर हो गए। एक पुलिस अधिकारी ने माना कि ऐसे हालात में लोगों के बीच सामाजिक दूरी के नियम का पालन कराना असंभव है।

इसे भी देखें : CM Yogi Adityanath ने किया जोरदार पलटवार, आगे से संभल कर बोलेगी Shivsena 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।