योगी के मंत्री का अजीबो-गरीब बयान, बोले- समाज के 95 फीसदी लोगों को नहीं है पेट्रोल-डीजल की जरूरत

योगी के मंत्री का अजीबो-गरीब बयान, बोले- समाज के 95 फीसदी लोगों को नहीं है पेट्रोल-डीजल की जरूरत

योगी सरकार में मंत्री उपेंद्र तिवारी ने पेट्रोल-डीजल को लेकर कहा कि आज चंद मुट्ठी भर लोग हैं जो चार पहिया वाहन से चल रहे हैं, जिनके लिए पेट्रोल की उपयोगिता है। आज समाज के अंदर 95 फीसदी लोग हैं जिनको पेट्रोल-डीजल की आवश्यकता नहीं है।

नयी दिल्ली। पेट्रोल-डीजल के लगातार बढ़ रहे दामों के बीच उत्तर प्रदेश के खेल मंत्री उपेंद्र तिवारी का अजीबोगरीब बयान सामने आया है। उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि पेट्रोल-डीजल के दामों में कोई बढ़ोत्तरी नहीं हुई है। आपको बता दें कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में गुरुवार को फिर वृद्धि हुई। 

इसे भी पढ़ें: मोदी सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों को दिया दीवाली का तोहफा, महंगाई भत्ते में की 3 फीसदी की वृद्धि 

कीमतों में लगातार हो रहा इजाफा

सरकारी खुदरा ईंधन विक्रेताओं की मूल्य अधिसूचना के अनुसार दिल्ली में पेट्रोल की कीमत रिकॉर्ड 106.54 रुपए प्रति लीटर और मुंबई में 112.44 रुपए प्रति लीटर हो गई। जबकि मुंबई में डीजल अब 103.26 रुपये प्रति लीटर और दिल्ली में 95.27 रुपए प्रति लीटर पर मिल रहा है।

इसी बीच उपेंद्र तिवारी ने पेट्रोल-डीजल को लेकर कहा कि आज चंद मुट्ठी भर लोग हैं जो चार पहिया वाहन से चल रहे हैं, जिनके लिए पेट्रोल की उपयोगिता है। आज समाज के अंदर 95 फीसदी लोग हैं जिनको पेट्रोल-डीजल की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि मुफ्त में 100 करोड़ से ऊपर वैक्सीन के डोज लग चुके हैं। सरकार कोरोना में मुफ्त में इलाज दिया। घर-घर में दवाईयां बांटी जा रही है। उन्होंने कहा कि मुफ्त में दवाई, मुफ्ता में पढ़ाई, मुफ्त में सिंचाई और मुफ्त में कढ़ाई यह सारा काम सरकार ने किया है।

इसे भी पढ़ें: CM शिवराज ने सरकारी कर्मचारियों को दिया तोहफा, महंगाई भत्ते में हुआ 8% का इजाफा 

उन्होंने कहा कि पेट्रोल-डीजल के दाम नहीं बढ़े हैं। अगर प्रति व्यक्ति आमदनी से तुलना करेंगे तो अभी पेट्रोल-डीजल के दाम बहुत कम हैं। उपेंद्र तिवारी ने कहा कि आज विपक्ष मुद्दा विहीन है। आप 2014 से पहले का आंकड़ा ले लीजिएगा। मोदी जी और योगी जी की सरकार बनने के पहले प्रति व्यक्ति आय क्या थी और आज कितनी है। आज प्रति व्यक्ति आय दोगुनी से भी ज्यादा हो गई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।