आप का आरोप, वैक्सीन निर्माताओं को फायदा पहुंचाने के लिए टीकों की कमी कर रहा केंद्र

आप का आरोप, वैक्सीन निर्माताओं को फायदा पहुंचाने के लिए टीकों की कमी कर रहा केंद्र

आतिशी ने कहा कि सरकार का टीकाकरण अभियान जो कि मुफ्त में लगाया जा रहा था वह रुक गया है लेकिन निजी अस्पतालों में यह लगातार अलग-अलग दरों पर जारी है।

नयी दिल्ली। दिल्ली में कोरोना वैक्सीन को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर लगातार जारी है। दिल्ली की सत्ताधारी आम आदमी पार्टी केंद्र सरकार पर वैक्सीन को लेकर कमी पैदा करने का आरोप लगा रही है। आम आदमी पार्टी की प्रवक्ता अतिशी ने आरोप लगाया कि भारत बायोटेक एवं सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को फायदा पहुंचाने के लिए केंद्र सरकार की ओर से कोविड-19 को का कृत्रिम अभाव पैदा किया जा रहा है। हालांकि आतिशी द्वारा लगाए गए इस आरोप को भाजपा ने बेबुनियाद करार दिया है। आतिशी ने कहा कि सरकार का टीकाकरण अभियान जो कि मुफ्त में लगाया जा रहा था वह रुक गया है लेकिन निजी अस्पतालों में यह लगातार अलग-अलग दरों पर जारी है।

आतिशी ने कहा कि यह एक बड़ा रैकेट है। एक सरकारी केंद्र जहां युवाओं का टीकाकरण बिल्कुल मुफ्त में किया जा रहा है वहां लगातार टीकों की कमी हो रही है जबकि निजी अस्पतालों में यह अधिकतम दरों पर किया जा रहा है। आप प्रवक्ता ने और अधिक टीकों को आपातकालीन मंजूरी नहीं देने के लिये केंद्र पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा, पूरी दुनिया में कई टीकों को मंजूरी मिली है। फाइजर के टीके को 85 देशों में मंजूरी मिली है। माडर्ना एवं जानसन एंड जानसन के टीकों को कम्रश: 46 एवं 41 देशों में मंजूरी मिली है। आप नेता ने कहा, इन तीन टीकों को आपताकालीन उपयोग के लिये अनुमति क्यों नहीं दी जा रही है। जब विश्व स्वास्थ्य संगठन इन टीकों की मंजूरी दे सकती है तो भारत क्यों नहीं दे सकता है। उन्होंने आरोप लगाया, इससे यह स्पष्ट हो जाता है भारत बायोटेक एवं सीरम इंस्टिट्यूट आफ इंडिया को फायदा पहुंचाने के लिये केंद्र सरकार ने यह कृत्रिम अभाव पैदा किया है। 

इसे भी पढ़ें: AAP के पूर्व विधायक जरनैल सिंह की कोरोना से मौत, सीएम केजरीवाल और सिसोदिया ने जताया शोक

भारतीय जनता पार्टी की दिल्ली इकाई के प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने कहा कि आतिशी का आरोप बेबुनियाद एवं आधारहीन हैं क्योंकि सरकार ने कमी पैदा नहीं की है। उन्होंने कहा कि आतिशी को पता होना चाहिये कि सीरम इंस्टिट्यूट एवं भारत बायोटेक को इस कमी से कोई फायदा नहीं है, क्योंकि कमी का मतलब विदेशी निर्माताओं का प्रवेश है। कपूर ने दावा किया कि कमी पैदा करना और आम लोगों को परेशानी में डालना दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की विशेषता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।