AAP ने आयुष्मान योजना पर उठाया सवाल, पूछा- बिहार में बच्चों की मौत कैसे?

aap-raises-question-over-ayushman-yojana
राष्ट्रपति ने गुरुवार को अपने अभिभाषण में कहा कि कम आय वर्ग के लोगों को बेहतर चिकित्सा सुविधायें मुहैया कराने के लिये शुरु की गयी आयुष्मान योजना निर्धन तबके के लिये मददगार साबित हो रही है।

नयी दिल्ली। आम आदमी पार्टी (आप) ने केन्द्र सरकार की आयुष्मान योजना के कारगर साबित होने पर सवाल उठाते हुये कहा है कि बिहार में पिछले दिनों व्यापक पैमाने पर दिमागी बुखार से हुयी मौत से इस योजना के निष्प्रभावी होने की सच्चाई उजागर हो गयी है। आप के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने बृहस्पतिवार को संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये आयुष्मान योजना को निष्प्रभावी बताया। गौरतलब है कि राष्ट्रपति ने गुरुवार को अपने अभिभाषण में कहा कि कम आय वर्ग के लोगों को बेहतर चिकित्सा सुविधायें मुहैया कराने के लिये शुरु की गयी आयुष्मान योजना निर्धन तबके के लिये मददगार साबित हो रही है। 

इसे भी पढ़ें: भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की ओर अग्रसर : राष्ट्रपति

संसद भवन परिसर में सिंह ने राष्ट्रपति के अभिभाषण पर प्रतिक्रिया में कहा कि अगर यह योजना इतनी प्रभावी होती तो बिहार में दिमागी बुखार से इतनी अधिक संख्या में बच्चों की मौत कैसे हो गयी। उन्होंने कहा कि आयुष्मान योजना की बात करते हैं और अगर यह इतनी ही सफल होती तो बिहार में बच्चों को राहत क्यों नहीं मिल पाई? यह संवेदनहीन सरकार है। इसको अस्पताल और पाठशाला नहीं, गोशाला से मतलब है। राष्ट्रपति के अभिभाषण पर सिंह ने कहा कि पिछले पांच वर्षों में यह देश भाषण सुनने का आदी हो गया है। जमीन पर क्या उतरा है, वह बड़ा सवाल है। करोड़ों लोगों को घर देने की बात इन्होंने पहले भी कही थी। किसानों की आय दोगुना करने की बात भी पहले कही थी। सवाल है कि किसानों को दोगुना दाम कब मिलेगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़