परगट सिंह की चुनौती स्वीकार करते हुए मनीष सिसोदिया जारी की 250 बेस्ट स्कूलों की लिस्ट

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2021   14:59
परगट सिंह की चुनौती स्वीकार करते हुए मनीष सिसोदिया जारी की 250 बेस्ट स्कूलों की लिस्ट

सिसोदिया ने कहा कि पंजाब के शिक्षामंत्री परगट सिंह ने आरोप लगाया था कि दिल्ली सरकार ने शिक्षा प्रणाली को बेहतर बनाने के लिए कोई काम नहीं किया है और चुनौती दी थी कि वह 250 विद्यालयों को देखना चाहते हैं जिनमें दिल्ली सरकार ने सुधार किया है।

नयी दिल्ली। दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने रविवार को राष्ट्रीय राजधानी के 250 सरकारी विद्यालयों की सूची जारी की, जिनका कायाकल्प आम आदमी पार्टी की सरकार ने गत पांच वर्षों में किया है। साथ ही, उन्होंने पंजाब को इसी तरह की सूची जारी करने की चुनौती दी, ताकि विद्यालयों में सुधार और उनके विकास के आधार पर दोनों सरकारों की तुलना की जा सके। सिसोदिया ने कहा कि पंजाब के शिक्षामंत्री परगट सिंह ने आरोप लगाया था कि दिल्ली सरकार ने शिक्षा प्रणाली को बेहतर बनाने के लिए कोई काम नहीं किया है और चुनौती दी थी कि वह 250 विद्यालयों को देखना चाहते हैं जिनमें दिल्ली सरकार ने सुधार किया है। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली सरकार ने श्रमिकों के लिए न्यूनतम मजदूरी बढ़ाई, जानिए कब से होगी लागू

उन्होंने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘इसलिए मैं आज दिल्ली सरकार के 250 विद्यालयों की सूची जारी कर रहा हूं, जिनका कायाकल्प गत पांच वर्षों में किया गया है। मैं पंजाब के शिक्षामंत्री से मांग करता हूं कि वह भी 250 सरकारी विद्यालयों की सूची जारी करें जहां सुधार किया गया है।’’ सिसोदिया दिल्ली के शिक्षा मंत्री भी हैं। सिसोदिया ने कहा कि पंजाब के शिक्षामंत्री इन (दिल्ली सरकार के) विद्यालयों का कभी भी दौरा कर सकते हैं और इसी प्रकार वह पंजाब सरकार के विद्यालयों की वास्तविकता जानने के लिए वहां का दौरा करेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे उम्मीद है कि आज शाम (रविवार) तक पंजाब के शिक्षामंत्री सूची जारी कर देंगे। हम दोनों मीडिया के साथ वास्तविकता की जांच करने के लिए पंजाब और दिल्ली के विद्यालयों का दौरा कर सकते हैं। इसके बाद जनता तय करेगी कि किस सरकार ने बेहतर काम किया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।