किचकिच के बाद बिहार में आखिरकार ‘महागठबंधन’ में हुआ सीटों का बंटवारा

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Mar 29 2019 6:46PM
किचकिच के बाद बिहार में आखिरकार ‘महागठबंधन’ में हुआ सीटों का बंटवारा
Image Source: Google

अपराध जगत से राजनीति में आए मोहम्मद शहाबुद्दीन और अनंत सिंह की पत्नियां क्रमश: हिना शहाब और नीलम देवी भी चुनाव लड़ेंगी। हिना शहाब राजद के टिकट पर सीवान से और नीलम देवी कांग्रेस की टिकट से मुंगेर से चुनाव लड़ने जा रही हैं।

पटना। लंबी रस्साकशी के बाद बिहार में आखिरकार ‘महागठबंधन’ के घटक दलों के बीच सभी 40 लोकसभा सीटों का आवंटन हो गया है। राजद प्रमुख लालू प्रसाद की बेटी मीसा भारती जहां पाटलिपुत्र सीट से चुनाव लड़ेंगी, वहीं दरभंगा सीट से राज्य के पूर्व मंत्री अब्दुल बारी सिद्दिकी को उतारने का फैसला किया गया है। पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार एक बार फिर सासाराम से चुनाव लड़ेंगी। राजद के हिस्से में 20 सीटें आई हैं जिसमें से 19 सीट पर अपने उम्मीदवार उतारेगी जबकि आरा की सीट उसने अपने कोटे से भाकपा (माले) के लिये छोड़ने का फैसला किया है। इसके अलावा कांग्रेस नौ, उपेन्द्र कुशवाहा की रालोसपा पांच और जीतन राम मांझी की ‘हम’ तथा मुकेश सहनी की ‘वीआईपी’ तीन-तीन सीटों पर चुनाव लड़ेगी। तेजस्वी यादव ने शुक्रवार को यहां संवाददाता सम्मेनलन में इसकी घोषणा की। कांग्रेस के किसी भी वरिष्ठ नेता के यहां मौजूद ना होने से पार्टी की नाराजगी भी जाहिर हुई। दरभंगा से अब्दुल बारी सिद्दीकी को उम्मीदवार बनाने से मौजूदा सांसद कीर्ति आजाद के वहां से फिर मैदान में उतरने की संभावनाओं पर पानी फिर गया। आजाद ने हाल ही में भाजपा छोड़ कांग्रेस का दामन थामा था।



 
कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं का संवाददाता सम्मेलन से नदारद रहना दर्शाता है कि पार्टी नेतृत्व राजद के इस सीट पर अपना कब्जा ना छोड़ने को लेकर काफी नाराज है। इससे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की काफी किरकिरी भी हुई है, जिन्होंने आजाद को उनके समर्थकों के साथ पार्टी में शामिल किया था। राजद के वरिष्ठ नेता सिद्दीकी बिहार सरकार में मंत्री के तौर पर कई महत्वपूर्ण मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं और विधानसभा में विपक्ष के नेता भी रहे हैं। उन्हें यह सीट मिलने से राजद के वरिष्ठ नेता अली अशरफ फातमी भी खफा हो गए हैं जिन्होंने कई बार दरभंगा का प्रतिनिधित्व किया है और 2014 के लोकसभा चुनाव में दूसरे नम्बर पर रहे थे। तेजस्वी ने तनवीर हसन के बेगूसराय से मैदान में उतरने की घोषणा भी की। राजद के उम्मीदवार के तौर पर पिछले लोकसभा चुनाव में वह इस सीट पर दूसरे स्थान पर रहे थे। इस सीट पर उनका मुकाबला भाकपा के कन्हैया कुमार और भाजपा के गिरिराज सिंह से होगा। यादव ने कहा, ‘‘ 18 निर्वाचन क्षेत्रों के लिए हमारे उम्मीदवार तय हो चुके हैं। शिवहर के लिए अगले कुछ दिनों में उम्मीदवार तय किया जाएगा और आरा सीट हम भाकपा (माले) के लिये छोड़ रहे हैं, जैसा कि पहले ही घोषणा की जा चुकी है।’’


शिवहर सीट पर उम्मीदवार के नाम की घोषणा नहीं किये जाने को रूठे तेज प्रताप यादव को शांत करने के प्रयास के तौर पर देखा जा सकता है, जिन्होंने छात्र राजद के प्रमुख के पद से गुरुवार को इस्तीफा दे दिया था। तेजप्रताप चाहते थे कि अंगेश कुमार और चंद्र प्रकाश को क्रमश: शिवहर और जहानाबाद से उम्मीदवार बनाया जाए। पूर्व राज्य मंत्री सुरेन्द्र यादव को जहानाबाद से उम्मीदवार घोषित किया गया है। वहीं तेजस्वी ने ‘महागठबंधन’ में दरार की खबरों को खारिज करते हुए कहा कि हम एकजुट हैं। राजद प्रमुख के परिवार के सदस्यों की बात करें तो उनकी बड़ी बेटी एवं राज्यसभा सदस्य मीसा भारती एक बार फिर पाटलिपुत्र से चुनाव लड़ेंगी, जहां से 2014 में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। पार्टी विधायक चंद्रिका राय सारण से चुनाव लड़ेंगे। उनकी बेटी ऐश्वर्या, लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव की पत्नी है। उनकी उम्मीदवारी तेज प्रताप को खफा कर सकती है जिन्होंने छह महीने पहले ही तलाक के लिए अर्जी डाली है। पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह वैशाली से उम्मीदवार हैं, जहां से उन्होंने कई बार चुनाव जीता है लेकिन पिछले चुनाव में लोजपा के रामा सिंह से उन्हें मात खानी पड़ी थी।


अपराध जगत से राजनीति में आए मोहम्मद शहाबुद्दीन और अनंत सिंह की पत्नियां क्रमश: हिना शहाब और नीलम देवी भी चुनाव लड़ेंगी। हिना शहाब राजद के टिकट पर सीवान से और नीलम देवी कांग्रेस की टिकट से मुंगेर से चुनाव लड़ने जा रही हैं। तेजस्वी ने बताया कि कांग्रेस ने सुपौल से रंजीत रंजन और समस्तीपुर से अशोक राम के नाम को मंजूरी दे दी है। पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार कांग्रेस की ओर से सासाराम से उम्मीदवार हैं। अभिनेता से नेता बने शत्रुघ्न सिन्हा का कांग्रेस की टिकट पर पटना साहिब से चुनाव लड़ना भी लगभग तय है। हालांकि, औपचारिक रूप से सिन्हा को अभी पार्टी में शामिल नहीं किया गया है। कांग्रेस ने केवल वाल्मीकि नगर से अपने उम्मीदवार का नाम तय नहीं किया है। ‘हम’ पार्टी नालंदा से अशोक राम आजाद चंद्रवंशी को मैदान में उतारेगी। रालोसपा जो जमुई से पहले ही अपना उम्मीदवार घोषित कर चुकी है, उसके खाते में पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, उजियारपुर और काराकाट सीट भी आई है। कुशवाहा फिलहाल काराकाट से सांसद हैं। इन सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा जल्द की जाएगी। हाल ही में ‘विकासशील इंसान पार्टी’ का गठन करने वाले बॉलीवुड के पूर्व सेट डिजाइनर मुकेश सहनी खगड़िया से चुनाव लड़ेंगे। उनकी पार्टी मुजफ्फरपुर और मधुबनी से भी उम्मीदवार उतारेगी।
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video