दलित बच्ची की घर से अपहरण के बाद हत्या, दुष्कर्म की आशंका

after-kidnapping-from-dalit-girls-house-murder-fear-of-rape
शव देखने से दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका व्यक्त की जा रही है। घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पुलिस अधीक्षक, अपर पुलिस अधीक्षक के साथ स्थानीय पुलिस भी पहुंच गई। डॉग स्क्वायड व फॉरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंची।

उन्नाव (उप्र)। जिले के सफीपुर कोतवाली इलाके में देवगांव के मजरे नयाखेड़ा में नाबालिग दलित किशोरी की अपहरण के बाद हत्या कर दी गयी, उसकी हत्या ईंट से कुचल कर की गई। पुलिस ने यह जानकारी दी। शुक्रवार सुबह घर के बाहर बिस्तर पर बच्ची के न मिलने पर परिजनों ने ढूंढ़ने का प्रयास किया। जिसके बाद गांव के बाहर उसके घर से करीब 100 मीटर की दूरी पर उसका रक्त रंजित शव बरामद हुआ। बच्ची के शरीर पर कपड़े नहीं थे। शव देखने से दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका व्यक्त की जा रही है। घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पुलिस अधीक्षक, अपर पुलिस अधीक्षक के साथ स्थानीय पुलिस भी पहुंच गई। डॉग स्क्वायड व फॉरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंची।

इसे भी पढ़ें: उन्नाव में मालगाड़ी का डिब्बा पटरी से उतरा, जानमाल का नुकसान नहीं

कुछ ही देर बाद आई जी जोन एस के भगत भी घटना स्थल पर पहुंचे और जांच के बाद बताया कि चार टीमें बनाई गई हैं, जल्द मामले का खुलासा किया जायेगा। आईजी जोन एस के भगत ने पत्रकारों को बताया कि पुलिस के हाथ मजबूत सबूत लगे हैं। डॉग स्क्वायड के आने के बाद मृत बच्ची के पड़ोस का एक युवक भागता हुआ देखा गया है। खून से सने कपड़े मिले हैं। उसकी तलाश जारी है। उसके मिलते ही खुलासा किया जायेगा।

इसे भी पढ़ें: गुड़गांव से बिहार जा रही बस पलटी, पांच यात्रियों की मौत, 19 घायल

पुलिस ने बताया कि सफीपुर कोतवाली क्षेत्र के नया खेड़ा मजरा देव गांव निवासी नीरज अपनी 12 वर्षीय बेटी और अन्य परिवारी जनों के साथ घर के बाहर सो रहा था। नीरज के अनुसार रात में तीन बजे तक बच्ची उसके साथ थी। दुबारा उठा तो बच्ची बिस्तर पर नहीं थी। सुबह खोजबीन करने पर गांव के बाहर उसका शव बरामद हुआ है। दूष्कर्म के बाद हत्या के मामले पर उनका कहना था कि पोस्टमार्टम के लिए शव भेजा गया है। रिपोर्ट के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

इसे भी देखें-

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़