जल्द ही वो दिन आएगा जब कर्नाटक में एम्स होगा, हर्षवर्धन बोले- भारत सरकार के समक्ष विचाराधीन है मुद्दा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 31, 2020   16:16
जल्द ही वो दिन आएगा जब कर्नाटक में एम्स होगा, हर्षवर्धन बोले- भारत सरकार के समक्ष विचाराधीन है मुद्दा

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि मैं जानता हूं, कर्नाटक में एम्स स्थापित करने के मुद्दे पर भारत सरकार का वित्त विभाग सक्रियता से विचार कर रहा है

बेंगलुरु। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने सोमवार को कहा कि कर्नाटक में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) स्थापित करने का मुद्दा भारत सरकार के समक्ष विचाराधीन हैं। हर्षवर्धन ने कहा, ‘‘ मैं जानता हूं, कर्नाटक में एम्स स्थापित करने के मुद्दे पर भारत सरकार का वित्त विभाग सक्रियता से विचार कर रहा है और जल्द ही वह दिन आएगा जब कर्नाटक में भी एम्स होगा।’’ बेल्लारी स्थित विजयनगर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में स्थापित मल्टी स्पेशियलिटी ट्रॉमा इकाई का डिजिटल माध्यम से उद्घाटन करते हुए हर्षवर्धन ने अटल बिहार वाजयपेयी सरकार में स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए दिवंगत सुषमा स्वराज द्वारा देश में स्वास्थ्य सेवा का विस्तार करने के लिए निभाई गई ‘सक्रिय भूमिका’ की चर्चा की। 

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक में कोरोना की 108 प्रयोगशालाएं, रोजाना हो रही 50 हजार से अधिक जांच: के सुधाकर 

उन्होंने कहा, ‘‘यह यात्रा 15 अगस्त, 2003 को एक एम्स से शुरू हुई और सात एम्स तक पहुंची, इसके बाद पिछली सरकार ने रायबरेली में एक और एम्स को जोड़ा और इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में वर्ष 2014 में इस गतिविधि को मजबूती मिली और यह यात्रा 22 एम्स तक पहुंच गई।’’ डिजिटल माध्यम से कार्यक्रम में मौजूद कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने केंद्रीय मंत्री का ध्यान आकर्षित कराया कि उन्होंने मंत्री को कलबुर्गी स्थिति ईएसआई अस्पताल एवं चिकित्सा महाविद्यालय को अधिग्रहीत कर एम्स जैसा संस्थान बनाने पर विचार करने के लिए पत्र लिखा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।