मुस्लिमों के आरक्षण के लिए महाराष्ट्र में आंदोलन करेगी एआईएमआईएम : ओवैसी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 18, 2021   17:40
मुस्लिमों के आरक्षण के लिए महाराष्ट्र में आंदोलन करेगी एआईएमआईएम : ओवैसी

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने बृहस्पतिवार को कहा कि महाराष्ट्र में मुस्लिमों को आरक्षण की मांग को लेकर उनकी पार्टी राज्य भर में आंदोलन करेगी।

औरंगाबाद। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने बृहस्पतिवार को कहा कि महाराष्ट्र में मुस्लिमों को आरक्षण की मांग को लेकर उनकी पार्टी राज्य भर में आंदोलन करेगी। ‘दुआ फाउंडेशन’ और ‘सेंटर फॉर डेवलपमेंट पॉलिसी एंड प्रैक्टिस’ द्वारा महाराष्ट्र में मुस्लिमों की वर्तमान स्थिति पर औरंगाबाद में आयोजित एक सम्मेलन में हिस्सा लेने के बाद ओवैसी ने संवाददाताओं से बात की। एआईएमआईएम के नेता ने दावा किया, ‘‘अदालत ने स्वीकार किया है कि मुस्लिम समुदाय की 50 जातियों को आरक्षण दिया जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री ने डलहौजी में राजकीय महाविद्यालय खोलने की घोषणा की

बहरहाल, सभी राजनीतिक दल मराठा समुदाय का समर्थन कर रहे हैं, लेकिन कोई भी मुस्लिमों के आरक्षण के बारे में नहीं बोल रहा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुस्लिमों के लिए आरक्षण की मांग की खातिर हम महाराष्ट्र में आंदोलन करेंगे। हम चाहते हैं कि राज्य सरकार नागपुर विधानसभा सत्र के दौरान आरक्षण के लिए अध्यादेश लाए।’’

इसे भी पढ़ें: भारत में पहली एलआईजीओ परियोजना के लिए 225 हेक्टेयर भूमि दी गयी

ओवैसी ने कहा कि मराठा समुदाय को आरक्षण के लिए प्रदर्शन करना चाहिए और एआईएमआईएम उनका साथ देगी। उन्होंने कहा ‘‘राज्य में कई दिनों से मराठा समुदाय खामोश है। उन्हें आंदोलन करना चाहिए और हम उनका साथ देंगे।’’ राज्य के अमरावती में हुई हिंसा की निंदा करते हुए ओवैसी ने कहा कि घटना की जांच की जानी चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।