इंदौर में जल्द ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए वायुसेना ने लगातार दूसरे दिन संभाला मोर्चा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 24, 2021   17:50
इंदौर में जल्द ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए वायुसेना ने लगातार दूसरे दिन संभाला मोर्चा

स्थानीय देवी अहिल्याबाई होलकर हवाई अड्डे की निदेशक अर्यमा सान्याल ने बताया कि वायुसेना के बड़े मालवाहक और परिवहन विमानों में शुमार सी-17 के जरिये चिकित्स्कीय ऑक्सीजन के एक खाली टैंकर को इंदौर से गुजरात के जामनगर भेजा गया। उन्होंने बताया कि वायुसेना का यह विमान शुक्रवार को भी मेडिकल ऑक्सीजन के एक खाली टैंकर को इंदौर से जामनगर ले गया था।

इंदौर। मध्यप्रदेश में कोविड-19 से सबसे ज्यादा प्रभावित इंदौर जिले में मेडिकल ऑक्सीजन की जल्द से जल्द आपूर्ति के लिए भारतीय वायु सेना ने लगातार दूसरे दिन शनिवार को भी मोर्चा संभाला और एक खाली टैंकर को जामनगर पहुंचाया। महामारी के खिलाफ वायुसेना की यह मुहिम ऐसे वक्त चल रही है, जब यहां मेडिकल ऑक्सीजन की कमी से मरीज और उनके परिजन काफी परेशान हो रहे हैं। स्थानीय देवी अहिल्याबाई होलकर हवाई अड्डे की निदेशक अर्यमा सान्याल ने बताया कि वायुसेना के बड़े मालवाहक और परिवहन विमानों में शुमार सी-17 के जरिये चिकित्स्कीय ऑक्सीजन के एक खाली टैंकर को इंदौर से गुजरात के जामनगर भेजा गया। उन्होंने बताया कि वायुसेना का यह विमान शुक्रवार को भी मेडिकल ऑक्सीजन के एक खाली टैंकर को इंदौर से जामनगर ले गया था।

चिकित्सकीय ऑक्सीजन से जुड़ी व्यवस्थाओं का जिम्मा संभाल रहे प्रशासनिक अफसर रोहन सक्सेना ने बताया, चिकित्सकीय ऑक्सीजन टैंकर को सड़क मार्ग के जरिये इंदौर से जामनगर पहुंचने में आमतौर पर करीब 20 घंटे का समय लगता है, जबकि वायुसेना के विमान से यह घंटे भर में ही वहां पहुंच रहा है। इस तरह हमारा काफी समय बच रहा है। सक्सेना ने बताया कि जामनगर के एक संयंत्र से चिकित्सकीय ऑक्सीजन भरवाने के बाद टैंकर सड़क मार्ग से इंदौर लौट रहे हैं। अधिकारियों ने बताया कि ऑक्सीजन से भरे कंटेनर की ढुलाई सैन्य विमानों से नहीं की जाती क्योंकि इस गैस को ज्वलनशील माना जाता है और इससे जहाज को खतरा हो सकता है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक करीब 35 लाख की आबादी वाले जिले में 24 मार्च 2020 से लेकर अब तक कोरोना वायरस संक्रमण के कुल 99,925 मरीज मिले हैं। इनमें से 1,092 मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।