अजय सिंह मुख्यमंत्री निवास के सामने धरने पर बैठे

अजय सिंह ने अल्टीमेटम दिया था कि यदि लाल सिंह आर्य मंत्रिमंडल से स्वयं इस्तीफा नहीं देते हैं या मुख्यमंत्री उन्हें मंत्री पद से बर्खास्त नहीं करते हैं, तो वह मुख्यमंत्री निवास के सामने धरने पर बैठेंगे।

भोपाल। मध्य प्रदेश के नर्मदा घाटी विकास राज्य मंत्री लाल सिंह आर्य (स्वतंत्र प्रभार) को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग को लेकर मध्य प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह एवं अन्य कांग्रेसी नेताओं ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निवास के सामने धरने पर बैठकर आज यहां प्रदर्शन किया। इससे पहले अजय सिंह ने अल्टीमेटम दिया था कि यदि आर्य मंत्रिमंडल से स्वयं इस्तीफा नहीं देते हैं या मुख्यमंत्री उन्हें मंत्री पद से बर्खास्त नहीं करते हैं, तो वह मुख्यमंत्री निवास के सामने धरने पर बैठेंगे।

गौरतलब है कि भिण्ड जिले में 13 अप्रैल 2009 को लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान तत्कालीन कांग्रेस विधायक माखनलाल जाटव की कुछ हमलावरों ने नजदीक से गोलियां मार कर कथित रूप से हत्या कर दी थी। इस हत्या के मामले में भिण्ड की विशेष अदालत ने 19 मई को आर्य के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया था, जिसे लेकर अजय सिंह उन्हें मंत्री पद से हटाने की मांग कर रहे हैं। आर्य सामान्य प्रशासन एवं विमानन राज्यमंत्री भी हैं। कांग्रेस नेता अजय सिंह ने पार्टी विधायकों गोविन्द सिंह और आरिफ अकील के साथ चौहान के सरकारी निवास श्यामला हिल्स इलाके में अपनी इस मांग के पूरी न होने के चलते विरोध प्रदर्शन किया। अजय सिंह ने कहा कि आर्य के खिलाफ भादंवि की धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया गया है और अदालत ने मंत्री के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट भी जारी किया है, फिर भी प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान कह रहे हैं कि यह (अदालत का आदेश) स्वीकार्य नहीं है।

मध्य प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता जेपी धनोपिया ने कहा, ‘‘जब तक हत्या के आरोपी आर्य इस्तीफा नहीं देते हैं या उन्हें कैबिनेट से हटाया नहीं जाता है, तब तक हमारा विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। इस मुद्दे पर जिला एवं ब्लॉक स्तर पर भी आंदोलन किये जाएंगे।’’ इस बीच, पुलिस अधीक्षक (उत्तर भोपाल) अरविंद सक्सेना ने कहा, ‘‘पुलिस ने अजय सिंह, आरिफ अकील तथा गोविन्द सिंह को श्यामला हिल्स इलाके से गिरफ्तार किया, जबकि अन्य कांग्रेसी कार्यकर्ताओं कोबाण गंगा इलाके से गिरफ्तार किया गया। इन सभी को भादंवि की धारा 151 के तहत गिरफ्तार किया गया और जेल भेज दिया गया।’’ उन्होंने कहा कि हालांकि बाद में इन सभी कांग्रेस नेताओं को आवश्यक औपचारिकताएं पूरी करने के बाद रिहा कर दिया गया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़