अकाली दल ने सिद्धू से पूछा, देश आपके प्राथमिकता में है कि नहीं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 29, 2018   18:42
अकाली दल ने सिद्धू से पूछा, देश आपके प्राथमिकता में है कि नहीं

अमृतसर के निरंकारी भवन पर 18 नवंबर को हुए ग्रेनेड हमले में तीन लोगों की मौत हो गयी थी और 20 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे। सुखबीर ने कहा कि सिद्धू को यह पता होना चाहिए कि पंजाब में नशे के दलदल के पीछे पाकिस्तान का हाथ है।

चंडीगढ़। पाकिस्तान स्थित खालिस्तान समर्थक एक अलगाववादी नेता द्वारा सोशल मीडिया पर पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के साथ कथित तौर पर अपनी तस्वीर साझा किये जाने के बाद शिरोमणि अकाली दल ने उन पर तीखा हमला बोलते हुए सवाल किया कि ‘‘भारत उनकी प्राथमिकता में है या नहीं।’’ पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (पीएसजीपीसी) के महासचिव गोपाल सिंह चावला ने बृहस्पतिवार को अपने फेसबुक पेज पर अपनी तथा सिद्धू की कथित तस्वीर साझा की।

खालिस्तान समर्थक चावला को पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा के साथ बुधवार को करतारपुर गलियारे के शिलान्यास समारोह में हाथ मिलाते हुए देखा गया था। शिरोमणि अकाली दल (शिअद) अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने कहा, "अमृतसर (निरंकारी भवन पर) में हुए आतंकवादी हमले और गोपाल चावला के बीच संबंध है। अमृतसर उनका (सिद्धू) निर्वाचन क्षेत्र है। अगर सिद्धू उसके साथ हाथ मिलाते हैं या उसके साथ कुछ करते हैं, तो उन्हें यह स्पष्ट करने के लिए जवाब देना होगा कि उनकी प्राथमिकता देश है या कुछ और?’’

अमृतसर के निरंकारी भवन पर 18 नवंबर को हुए ग्रेनेड हमले में तीन लोगों की मौत हो गयी थी और 20 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे। सुखबीर ने कहा कि सिद्धू को यह पता होना चाहिए कि पंजाब में नशे के दलदल के पीछे पाकिस्तान का हाथ है। "हमारे युवाओं को मारे जाने के पीछे जनरल बाजवा हैं जिनसे वह हाथ मिलाते हैं।" कांग्रेस अध्यक्ष पर हमला बोलते हुए शिअद नेता ने कहा कि राहुल गांधी के पास सिद्धू को अध्यक्ष बना कर अपनी पार्टी का विस्तार पाकिस्तान तक करने का ‘बहुत बेहतर मौका’ है।

यह भी पढ़ें: नहीं माने बड़बोले सिद्धू, पाकिस्तान में उठा दिया राफेल मुद्दा

हालांकि, कांग्रेस नेता राज कुमार वेरका ने सिद्धू पर हमला करने और शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष गोबिंद सिंह लौंगोवाल के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने के लिए शिअद की निंदा की क्योंकि लौंगोवाल की कथित तस्वीर भी चावला के साथ सोशल मीडिया में दिखाई दी थी। वेरका ने कहा, "मुझे लगता है कि सुखबीर, बादल परिवार और भाजपा सिद्धू फोबिया से पीड़ित हैं । मुझे लगता है कि वे लोग बाबा (गुरु) नानक देव से ज्यादा सिद्धू का नाम जपते हैं।"

कांग्रेस नेता ने दावा किया, "लौंगोवाल चावला को बहुत अच्छी तरह जानते हैं। वह जानते हैं कि चावला (पाकिस्तान) गुरुद्वारा कमेटी का सदस्य है। उन्हें यह भी पता है कि वह हमारे देश का दुश्मन है। इसके बावजूद, लौंगोवाल ने चावला के साथ तस्वीर खिंचवाई। सिद्धू को चावला के बारे में तो जानकारी भी नहीं है।" वेरका ने बादल से पूछा कि क्या वह शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रमुख के पद से लौंगोवाल के इस्तीफे की मांग करेंगे।

यह भी पढ़ें: शिवराज सरकार 15 साल पुरानी खटारा गाड़ी है, इसको हटाना हैः सिद्धू

इस बीच, दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन समिति के पूर्व प्रमुख परमजीत सिंह सरना ने दावा किया कि सिद्धू ने कई बार चावला की अनदेखी की लेकिन अमृतसर के अटारी में वह (चावला) उनके साथ एक तस्वीर खिंचवाने में कामयाब रहा।" सिद्धू, लौंगोवाल और सरना ने पाकिस्तान में शिलान्यास समारोह में भाग लिया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।