अखिलेश का बीजेपी पर तंज, कहा- ये बस बातों से बिजली बनाते हैं

अखिलेश का बीजेपी पर तंज, कहा- ये बस बातों से बिजली बनाते हैं

सपा सुप्रीमो ने कहा कि हमारी सरकार ने बिजली के कारखाने लगाए थे। भाजपा से पूछो कि उन्होंने इधर क्या लगाया है? इन्होंने न कोयले से बिजली बनाई, न पानी से बिजली बनाई और न सूरज से बिजली बनाई।

विजय रथ यात्रा की शुरुआत बीते दिनों कर दी है। आज हमीरपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने बीजेपी पर निशाना साधा और चुटीले अंदाज में तंज भी कसा। सपा सुप्रीमो ने कहा कि हमारी सरकार ने बिजली के कारखाने लगाए थे। भाजपा से पूछो कि उन्होंने इधर क्या लगाया है? इन्होंने न कोयले से बिजली बनाई, न पानी से बिजली बनाई और न सूरज से बिजली बनाई, भाजपा के लोगों से सावधान रहना, ये बातों से बिजली बनाते हैं।

इसे भी पढ़ें: सिद्धार्थ नाथ सिंह का तंज, अखिलेश का गंगा-जमुनी सौहार्द दंगे के रूप में देख चुकी है प्रदेश की जनता

इससे पहले भी अखिलेश यादव बिजली के मुद्दे पर योगी सरकार को घेर चुके हैं। अखिलेश यादव ने राज्य में बिजली बिल में इजाफे का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर चुटकी ली थी। उन्होंने कहा था कि मुख्यमंत्री बिजली के प्लांट का नाम तक नहीं ले पाते हैं तो बनाएंगे कैसे। 'जब मुख्यमंत्री जी आएं तो उनसे कहना कि प्लांट का नाम बता दो 3X60 सुपर क्रिटिकल थर्मल प्लांट। वो पता नहीं क्यों नहीं कहते। हमें नहीं पता कि क्यों नहीं कहते हैं। जब कह नहीं पाते तो बिजली कैसे बनाएंगे? जो कहेंगे वही तो करेंगे। 

मंहगाई को लेकर साधा निशाना

अखिलेश ने मंहगाई को लेकर भी बीजेपी सरकार को कटघरे में खड़ा किया। उन्होंने कहा कि बीजेपी के लोग कहते थे कि हम महंगाई को कम कर देंगे, लेकिन आज देश में पेट्रोल-डीजल 100 के पार जा चुका है। उज्जवला योजना के नाम पर गरीबों को फ्री सिलेंडर बांटने वाली बीजेपी से कोई पूछो कि उनको इतनी मंहगी गैस नसीब हो रही है या नहीं। सरसो का तेल 200 तक पहुंच गया है। उन्होंने बताया कि बीजेपी इतना सब होने के बाद सबसे ज्यादा मुनाफा कमा रही है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।