पुलिस की पिटाई से युवती की हुई मौत, आरोपियों के खिलाफ दर्ज हो हत्या का मामला: अखिलेश यादव

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 9, 2022   16:47
पुलिस की पिटाई से युवती की हुई मौत, आरोपियों के खिलाफ दर्ज हो हत्या का मामला: अखिलेश यादव

चंदौली में एक मई को पुलिस की छापेमारी के दौरान एक युवती की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गयी थी जिसके बाद छह पुलिसकर्मियों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया गया था। परिवार वालों ने आरोप लगाया था कि युवती के साथ दुष्कर्म किया गया।

वाराणसी (उप्र)। समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने चंदौली जिले में पुलिस की छापेमारी के दौरान एक युवती की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के मामले में पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या की प्राथमिकी दर्ज करने की मांग करते हुए सोमवार को दावा किया कि उनकी (पुलिस की) पिटाई से ही युवती की मौत हुई है। चंदौली में एक मई को पुलिस की छापेमारी के दौरान एक युवती की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गयी थी जिसके बाद छह पुलिसकर्मियों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया गया था। परिवार वालों ने आरोप लगाया था कि युवती के साथ दुष्कर्म किया गया। 

इसे भी पढ़ें: मानवाधिकार और महिला आयोग से नोटिस पाने वालों में सबसे आगे है उत्तर प्रदेश : अखिलेश यादव

चंदौली में युवती के परिजनों से मिलने पहुंचे यादव ने सोमवार को यहां संवाददाताओं से कहा, क्या कोई कल्पना कर सकता है कि पुलिस दबिश (छापे) के बहाने दबंग बनकर दिखाएगी। यादव ने सवाल उठाया कि पुलिस को किसी भी घर में घुसकर मारपीट करने का अधिकारी किसने दिया। किस कानून के तहत, उसे (पुलिस को) लोगों को पीटने का अधिकार मिला। सपा प्रमुख ने आरोप लगाया कि वह (चंदौली की युवती) पुलिस की पिटाई के कारण मर गई। उन्होंने हत्या के आरोप में भादंसं की धारा 302 (हत्या) के तहत प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की। 

इसे भी पढ़ें: अखिलेश यादव का भाजपा पर बड़ा हमला, कहा- हर रोज बढ़ रही महंगाई

यादव ने कहा कि पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया जाए और उन्हें जेल भेजा जाए। यादव ने विभिन्न आरोपों में वाराणसी जेल में बंद अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से भी मुलाकात की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार भेदभाव कर रही है और जाति और धर्म के आधार पर काम कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि जो कार्यकर्ता रोजे में उपवास पर थे उन्हें जेल भेज दिया और उन्हें अपनी ईद जेल में मनानी पड़ी। सपा नेता ने भरोसा दिया कि वह पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ हैं और उन्हें हर संभव कानूनी सहायता प्रदान की जाएगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।