वेस्ट बैंक में इजराइली सेना की कार्रवाई में अल-जजीरा की पत्रकार की मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 11, 2022   16:31
वेस्ट बैंक में इजराइली सेना की कार्रवाई में अल-जजीरा की पत्रकार की मौत
prabhasakshi

वेस्ट बैंक शहर जेनिन में एक इजराइली कार्रवाई के दौरान अल-जजीरा की एक पत्रकार की बुधवार को मौत हो गई। फलस्तीनी प्राधिकरण (पीए) और कतर के नेटवर्क ने उसकी मौत के लिए इजराइली सेना को जिम्मेदार ठहराया है। फलस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि अल-जजीरा के लिए यरुशलम में कार्यरत पत्रकारशिरीन अबू अकलेह (51) को सिर में गोली लगी।

यरुशलम। वेस्ट बैंक शहर जेनिन में एक इजराइली कार्रवाई के दौरान अल-जजीरा की एक पत्रकार की बुधवार को मौत हो गई। फलस्तीनी प्राधिकरण (पीए) और कतर के नेटवर्क ने उसकी मौत के लिए इजराइली सेना को जिम्मेदार ठहराया है। फलस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि अल-जजीरा के लिए यरुशलम में कार्यरत पत्रकारशिरीन अबू अकलेह (51) को सिर में गोली लगी। मंत्रालय ने बताया कि एक अन्य पत्रकार अली समोदी को पीठ में गोली लगने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उनकी हालत स्थिर बताई गई है।

इसे भी पढ़ें: कला क्षेत्र में उत्तर बनाम दक्षिण विवाद का कोई महत्व नहीं : रणवीर सिंह

समोदी अल-कुद्स अखबार में कार्यरत हैं। इजराइली सेना ने इस बात से इनकार किया कि उसकी सेना ने पत्रकारों को निशाना बनाया और साथ ही कहा कि सच्चाई का पता लगाने के लिए जांच की जायेगी। सेना ने कहा कि इजराइली सेना जेनिन शरणार्थी शिविर और वेस्ट बैंक के कई अन्य क्षेत्रों में ‘‘आतंकवादी संदिग्धों’’ को पकड़ने के लिए अभियान चला रही थी। इजराइली रक्षा बलों (आईडीएफ) के अनुसार आतंकवादियों ने छापेमारी के दौरान इजराइली बलों पर गोलियां चलाईं और उन पर विस्फोटक फेंके।

फलस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने कहा कि वह शिरीन अबू अकलेह की मौत के लिए इजराइली बलों को ‘‘पूरी तरह से जिम्मेदार’’ मानते हैं। कतर के प्रसारक ने अपने चैनल पर जारी किए गए एक बयान में कहा, ‘‘हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आह्वान करते हैं कि वह हमारी सहयोगी शिरीन अबू अकलेह को जानबूझकर निशाना बनाने और उनकी जान लेने के लिए इजराइली बलों की निंदा करें और उनकी जवाबदेही तय करें।’’ घटना के एक वीडियो में, अबू अकलेह नीले रंग की जैकेट पहने नजर आ रही हैं, जिस पर स्पष्ट रूप से ‘‘प्रेस’’ लिखा हुआ है। वहीं, इजराइली सेना ने कहा कि जेनिन में उनके बल पर भारी गोलीबारी की गई तथा विस्फोटकों से हमले किए गए और तब उसकी सेना ने जवाबी कार्रवाई की। सेना ने कहा, ‘‘वह घटना की जांच कर रही है और हो सकता है कि पत्रकार फलस्तीनी बंदूकधारियों की गोलीबारी की चपेट में आ गई हों।’’

इसे भी पढ़ें: रोहित भाई और विराट भाई ने मोटी कीमत का दबाव न बनाने की सलाह दी थी : ईशान किशन

इस बीच इजराइल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट ने संयुक्त जांच की मांग की है। उन्होंने एक बयान में कहा, ‘हमने जो जानकारी एकत्र की है, उसके अनुसार सशस्त्र फलस्तीनी उस समय अंधाधुंध गोलीबारी कर रहे थे और ऐसा प्रतीत होता है कि वे पत्रकार की मौत के लिए जिम्मेदार हैं।’’ फलस्तीनी प्राधिकरण ने हमले की निंदा की और कहा कि यह इजराइली बल द्वारा किया गया एक ‘‘चौंकाने वाला अपराध’’ है। फलस्तीनी प्राधिकरण, कब्जे वाले वेस्ट बैंक के कुछ हिस्सों पर शासन करता है और सुरक्षा मामलों पर इजराइल का सहायोग भी करता है। यरुशलम में जन्मी अबू अकलेह 51 वर्ष की थीं। उन्होंने 1997 में अल-जजीरा के लिए काम शुरू किया था और नियमित रूप से फलस्तीनी क्षेत्रों से रिपोर्टिंग कर रहीं थीं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।