शराब त्रासदी है हत्या, लिप्त पाए जाने पर किसी को नहीं बख्शेंगे: अमरिंदर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 4, 2020   19:39
शराब त्रासदी है हत्या, लिप्त पाए जाने पर किसी को नहीं बख्शेंगे: अमरिंदर

यह सर्वथा हत्या है और हत्यारे बचकर नहीं निकल पायेंगे। उन्हें पता था कि इससे जान जा सकती है तिस पर भी उन्होंने जहरीली शराब आपूर्ति की और बेची। वे दया के पात्र कतई नहीं हैं।’

चंडीगढ़। जहरीली शराब कांड को लेकर विपक्ष के निशाने पर आये पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को कहा कि इस मामले में अगर कोई भी शामिल पाया जाता है, तो उसे बख्शा नहीं जायेगा। इस कांड में अब तक 111 लोगों की मौत हो चुकी है। शराब त्रासदी में मौतों को ‘सर्वथा हत्या’ करार देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वह हत्यारों को बचकर नहीं जाने देंगे। राज्य में शराब त्रासदी में तरनतारन जिले, गुरदासपुर के बटाला और अमृतसर में अब तक 111 लोगों की जान जा चुकी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह राज्य में शराब माफिया का सफाया कर देंगे। उन्होंने कहा, ‘‘इस शराब कांड मौतों में कोई भी, चाहे वह नेता हो या जनसेवक, लिप्त पाया जाता है तो उसे बख्शा नहीं जाएगा।’’

इस मामले में कठोरतम कार्रवाई का वादा करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘जहरीली शराब के कारण 111 मौतें हुई हैं। पूरे पुलिस बल और आबकारी विभाग को (इस कांड की जांच के) इस काम में लगा दिया गया है और मैं चाहता हूं कि अगले दो दिनों में यह काम पूरा हो जाए।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ शरारती एवं लालची तत्वों ने पंजाबियों की जान की कीमत पर अपने लालच को पूरा करने के लिए पुलिस के कोविड-19 महामारी के खिलाफ संघर्ष के मोर्चे पर व्यस्त रहने का फायदा उठाया। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब शराब कांड में 100 से अधिक लोगों की गई जान, सनी देओल ने CM को पत्र लिखकर निष्पक्ष जांच की मांग की

उन्होंने कहा, ‘‘ यह सर्वथा हत्या है और हत्यारे बचकर नहीं निकल पायेंगे। उन्हें पता था कि इससे जान जा सकती है तिस पर भी उन्होंने जहरीली शराब आपूर्ति की और बेची। वे दया के पात्र कतई नहीं हैं।’’ इस त्रासदी का अपने ‘क्षुद्र राजनीतिक हितों’ के लिए ‘दोहन’ करने को लेकर विपक्ष की आलोचना करते हुए सिंह ने कहा कि यह समय राजनीति करने का नहीं बल्कि ऐसी हरकत में लगे माफिया का सफाया करने के लिए सरकार का साथ देने का है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।