मदरसे में लोहे की जंजीरों से बंधे मिले बच्चें! मात-पिता के कहने पर मौलवी करता था यह काम

मदरसे में लोहे की जंजीरों से बंधे मिले बच्चें! मात-पिता के कहने पर मौलवी करता था यह काम

इस वीडियो के सामने आने से पुलिस और अल्पसंख्यक विभाग ने मामले की जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने मासूस को छुड़वाया और मस्जिद के मौलवी को हिरासत में लिया है और पूछताछ शुरू कर दी है। जानकारी के लिए बता दें कि, पुलिस के पास 10 बजे यह वीडियो सामने आया है।

यूपी के अलीगढ़ में सासनी गेट थाना क्षेत्र के लड़िया इलाके से काफी हैरान कर देने वाली खबर सामने आ रही है। आपको बता दें कि मस्जिद में 13 साले का मासूस बच्चा जंजीरों से बंधा हुआ मिला। इसका एक वीडियो भी वायरल हो रहा है जिसमें बच्चे को बांधकर पीटने का मामला सामने आया है। इस वीडियो के सामने आने से पुलिस और अल्पसंख्यक विभाग ने मामले की जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने मासूस को छुड़वाया और मस्जिद के मौलवी को हिरासत में लिया है और पूछताछ शुरू कर दी है। जानकारी के लिए बता दें कि, पुलिस के पास 10 बजे यह वीडियो सामने आया है जिसमें तीन बच्चों को जंजीरों से बांध कर रखा गया है। बच्चे पानी पीते हुए नजर आ रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: यूपी में धर्मांतरण सिंडिकेट का भंडाफोड़, कलीम सिद्दकी गिरफ्तार, हवाला फंडिंग का आरोप

जब इस वीडियो की जांच की गई तो पाया गया कि सासनी गेट थाना क्षेत्र के मोहल्ला लड़िया स्थित तालीम उल कुरान नाम से यह मस्जिद है। पुलिस हरकत में आई जिसके बाद पुलिस हरकत में आई और मौलवी को हिरासत में लिया गया।जंजीरों में बंधें बच्चों की उम्र 13 साल बताई जा रही है। पुलिस ने इन सभी बच्चों के परिवारवालों को सूचित भी कर दिया है। बता दें कि इस मस्जिद में 40 बच्चे रहते हैं जिन्हें तालीम दी जाती है। 20 बच्चे ऐसे भी है जो दिन में महरसा आते थे। आपको बता दें कि जंजींर में बंधें 3 बच्चों का यह वीडियो लॉकडाउन से पहले पुराना है। जांच के दौरान पाया गया कि, इन बच्चों को माता-पिता के सहमति से जंजींर से बांधा गया था। जांच में यह भी पाया गया कि, मदरसा अवैध है क्योंकि इसका कोई भी रिकॉर्ड विभाग के पोर्टल पर नहीं है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।